पर्यावरण को संरक्षित करने में जनता का जागरूक होना अति आवश्यक : उपायुक्त

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर उपायुक्त गुमला ने चंदाली स्थित डी.ए.वी पब्लिक स्कूल के प्रांगण में किया पौधरोपण

: प्रकृति को सुरक्षित रखने के लिए छोटी-छोटी कोशिशें भी प्रभावकारी- पुलिस अधीक्षक

: प्रकृति के रूप को अक्षुण्ण रखने के लिए अधिक से अधिक पौधे लगाएं- डी.एफ.ओ

: अपने परिवार के साथ-साथ पर्यावरण की रक्षा बेहद जरूरी- एस.डी.ओ. गुमला

गुमला : विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा ने चंदाली स्थित डी.ए.वी पब्लिक स्कूल के प्रांगण में वृक्षारोपण कर पर्यावरण के संरक्षण का संदेश दिया।

उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा, पुलिस अधीक्षक ह-दीप पी. जनार्दनन, वन प्रमंडल पदाधिकारी श्रीकांत, सदर अनुमंडल पदाधिकारी रवि आनंद एवं डीपीओ विभूति सिंह द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर विश्व पर्यावरण दिवस कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

इस अवसर पर उपायुक्त ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा 1972 में 05 जून से लेकर 16 जून तक आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन में इस दिन को मनाने को लेकर चर्चा की गई थी। इसके बाद 05 जून 1974 को पहला विश्व पर्यावरण दिवस मनाया गया। क्योंकि पर्यावरण में पेड़ पौधे, जीव जंतु आदि मुख्य भूमिका निभाते हैं, इसलिए इस दिन नागरिकों के द्वारा पूरे विश्व में पेड़ पौधे लगाए जाते हैं तथा पेड़ पौधों को सुरक्षित रखने का आवाहन किया जाता है। विश्व पर्यावरण दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण की सुरक्षा एवं संरक्षण करना है। जब तक प्रत्येक व्यक्ति अपने मन में पर्यावरण को संरक्षित रखने की न ठानें, तब तक पर्यावरण की सुरक्षा एवं संरक्षण संभव नहीं है। पर्यावरण को संरक्षित करने के लिए जनता का जागरूक होना अति आवश्यक है। उन्होंने पर्यावरण को बचाने के लिए प्लास्टिक का उपयोग कम से कम करने की अपील की। विश्व पर्यावरण दिवस लोगों में जागरूकता उत्पन्न करता है। पर्यावरण को सुरक्षित रखने के लिए हर नागरिक को सामूहिक रूप से पर्यावरण के प्रति कुछ करने के लिए संकल्प लेने की आवश्यकता है। विश्व पर्यावरण दिवस पौधे लगाने पर जोर देता है। जिससे ग्लोबल वार्मिंग तथा तापमान में हो रही बढ़ोतरी में कमी होती है तथा इसी के साथ-साथ पारिस्थितिक तंत्र आदि में भी सुधार होता है। वृक्षारोपण करने से प्रकृति में ऑक्सिजन का उत्सर्जन होता है। पेड़ों से तापमान भी नियंत्रित रहता है। इसलिए पर्यावरण की सुरक्षा और संरक्षण का ध्यान रखना हमारा परम कर्त्तव्य बनता है। उन्होंने वैश्विक महामारी कोरोना वायरस की चर्चा करते हुए लोगों को इससे बचाव हेतु तीन मूलमंत्रों यथा मास्क का उपयोग, ग्लब्ज/ सैनेटाइजर/ हैंडवॉश तथा सामाजिक दूरी के नियमों का पालन करने पर जोर दिया। उन्होंने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि चूंकि आप सब अभी टीकाकरण के लिए निर्धारित आयू-सीमा में नहीं हैं, किंतु आप अपने परिवार के सदस्यों, अपने आस-पड़ोस में रहने वाले लोगों से टीके का डोज लेने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने टीकाकरण के प्रति फैलने वाले अफवाहों को निराधार बताया हुए कहा कि उन्होंने स्वयं टीके के दोनों डोज लिए हैं और स्वस्थ हैं। टीके से शरीर पर किसी भी प्रकार का कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है। कोरोना वायरस से लड़ने में ये टीके कारगर एवं सुरक्षित हैं। उन्होंने विद्यार्थियों से अधिक से अधिक लोगों को टीकाकृत करवाने में जिला प्रशासन का भरपूर सहयोग करने तथा आमजनों के बीच टीकाकरण को लेकर प्रचार-प्रसार करने की भी अपील की।

कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक हृदीप पी.जनार्दनन ने कहा कि आज का दिन बेहद महत्वपूर्ण है। कितुं आज मानव व्यवहार के कारण प्रकृति को काफी क्षति पहुंच रही है। इस क्षति से पर्यावरण को सुरक्षित रखने के लिए हमें छोटी-छोटी कोशिशें करना चाहिए। प्रकृति को सुरक्षित रखने के लिए ये छोटी-छोटी कोशिशें भी प्रभावकारी साबित होती हैं। आप देश के भविष्य हैं। इसलिए पर्यावरण को संरक्षित एवं सुरक्षित रखने में आप छोटी-छोटी कोशिशें अवश्य करें। रास्ता दिखाना गुरूजनों का कार्य है, किंतु उस रास्ते पर चलना आपका कर्त्तव्य है।

वन प्रमंडल पदाधिकारी श्रीकांत ने विश्व पर्यावरण दिवस के विषय में कहा कि विश्व पर्यावरण दिवस 2021 का थीम “पारिस्थितिक तंत्र पुनर्निर्माण” है। उन्होंने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि जो भी वृक्ष हम लगाते हैं वो प्रकृति के रूप को अक्षुण्ण रखने का एक जरिया है। प्रकृति के रूप को अक्षुण्ण एवं संरक्षित रखने के लिए प्लास्टिक एवं प्लास्टिक युक्त सामग्रियों का निपटान तथा प्रबंधन उचित तरीके से करें। बेवजह विजली की बर्बादी न करें, पर्यावरण प्रदूषण को रोकने के लिए इंधन का प्रयोग कम करें। वृक्षारोपण करें। क्योंकि वृक्ष कार्बन डाई ऑक्साईड को ग्रहण कर प्रकृति में ऑक्सिजन का प्रवाह करता है। साथ ही जंगलों को भी संरक्षित करें। उन्होंने विद्यार्थियों को अपने आसपास अधिक से अधिक कार्बन सोखने वाले पेड़ों को लगाने हेतु प्रेरित किया।

सदर अनुमंडल पदाधिकारी रवि आनंद विश्व पर्यावरण दिवस को संबोधित करते हुए कहा कि जिस तरह आप अपने परिवार की रक्षा करते हैं, उसी तरह पर्यावरण की भी रक्षा करें। अपने आसपास मौजूद प्राकृति संसाधनों का बचाव करें। इसके साथ ही उन्होंने विद्यार्थियों को कोरोना काल में अपने माता-पिता को इस महामारी से सुरक्षित रखने के लिए उन्हें टीकाकरण हेतु प्रेरित करने की अपील की। साथ ही उन्होंने आमजनों से अपने घरों पर रहने, अनावश्यक अपने घरों से बाहर न निकलने पर जोर दिया। साथ ही उन्होंने विद्यार्थियों से अपने आसपास, अपने घरों, विद्यालय परिसर आदि को साफ व स्वच्छ रखने की भी अपील की।

इसके पश्चात् कार्यक्रम में ऑनलाइन मास्क मेकिंग प्रतियोगिता एवं पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता में विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया तथा अन्य सभी प्रतिभागियों को सांत्वना पुस्कार से सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के अंत में अभिजीत झा द्वारा धन्यवाद ज्ञापन किया गया।

वृक्षारोपण ड्राइव के दौरान विद्यालय प्रांगण में उपायुक्त एवं पुलिस अधीक्षक हृदीप पी.जनार्दनन द्वारा कटहल, सफेद चंदन तथा नाशपती के पौधों का रोपण किया गया। वहीं सदर अनुमंडल पदाधिकारी द्वारा मोहोगनी के पौधे का रोपण किया गया।

उपस्थिति
इस अवसर पर उपायुक्त शिशिर कुमार सिन्हा, पुलिस अधीक्षक हृदीप पी.जनार्दनन, वन प्रमंडल पदाधिकारी श्रीकांत, सदर अनुमंडल पदाधिकारी रवि आनंद, जिला योजना पदाधिकारी विभूति नारायण सिंह, विद्यालय के प्राचार्य पी.के. मोहंती, 46 झारखंड बटालियन के कैडेट्स सह विद्यालय के छात्र-छात्राएं, शिक्षक गण, व अन्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *