जल जंगल ज़मीन व वन पर्यावरण की रक्षा के लिए ग्रामीनो को दिलायी गयी शपथ

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर; वनविभाग के तत्वाधान में सारंडा वन प्रमंडल चाईबासा के कोइना वन प्रक्षेत्र , मनोहरपुर पंचायत में ईको विकास समिति, चिड़िया व वन विभाग के द्वारा शनिवार को एक ग्राम सभा का आयोजन किया गया ।
ग्राम सभा की शुरूआत में सारंडा वन प्रमंडल पदाधिकारी, श्री रजनीश कुमार व प्रशिक्षु आईएफएस श्री प्रजेश जेना का स्वागत ईको विकास समिति के महिलाओं के द्वारा पारंपरिक रीति रिवाजों से वनों में उपलब्ध फूलों की माला देकर व पीतल की थाली में हाथ धुलवाकर किया। उसके बाद ग्रामीणों ने भारतीय संविधान की प्रस्तावना को पढ़ा एवं जल, जंगल व जमीन बचाने की शपथ ली। सभी ग्रामीणों ने अवैध पेड़ नहीं काटने व जंगल बचाने की शपथ ली।
डीएफओ व प्रशिक्षु आईएफएस के द्वारा उनकी गांव की समस्याओं को सुना एवं ग्रामीण विकास से संबंधित बातों पर चर्चा की । इस अवसर पर वन विकास, वन प्रबंधन, वन सुरक्षा, ग्राम विकास, ग्रामीणों को रोजगार से जोड़ने, वनोपज के माध्यम से रोजगार के साधन, विभाग के द्वारा उनके क्षेत्र में नए कार्यों का विस्तृत विवरण, महिला समितियों को सिलाई मशीन की प्रशिक्षण, पत्तल बनाने की प्रशिक्षण व अन्य प्रशिक्षण के बारे में चर्चा की गई। ग्रामीणों ने बागवानी व फलदार वृक्षों की नर्सरी लगाने का सुझाव दिया। जो प्रवासी श्रमिक कोरोना काल के समय से बाहर से आए हैं उनको भी रोजगार देने व कोइना नदी में गिरे आयरन ओर को निकालने व नदी को साफ करने के लिए भी चर्चा हुई।
ईको विकास समिति, चिड़िया के अध्यक्ष श्री लक्ष्मण सामद ने बताया कि उनके गांव के लोगों को जंगल से जलावन लकड़ी लाने के लिए ग्राम सभा से अनुमति लेनी होती हैं और समिति के द्वारा भी जंगल बचाने के लिए समय समय पर जागरूकता अभियान चलाया जाता है। इस समय चिड़िया में तीन स्वयंसेवी संस्था काम कर रही है।
सारंडा वन प्रमंडल पदाधिकारी, श्री रजनीश कुमार ने बताया कि ग्रामीणों की समस्याओं को जल्द ही निपटाने का प्रयास किया जाएगा। पंचायत के सभी गांव वालों की मांग के लिए सभी वन समितियों को मिलाकर एक एकीकृत विशाल समिति बनाया जाएगा। क्षेत्र में पर्यटन की काफी संभावनाएं हैं गांव की लोगों को ही पर्यटन मित्र की प्रशिक्षण दिया जाएगा जिससे उन्हें रोजगार के अवसर भी प्रदान होंगे और पर्यटकों के आने से क्षेत्र का भी विकास होगा। ग्रामीणों की मूलभूत सुविधाएं जैसे शिक्षा, चिकित्सा ,सड़क व मोबाईल नेटवर्क जैसे समस्याओं जल्द से जल्द हल निकालने के लिए संबंधित विभागों सूचित किया जाएगा। उन्होंने ग्रामीणों को जंगल की आग बुझाने में मदद करने के लिए धन्यवाद दिया। जो खेत बंजर हो गए है उनके पास के जंगल में एलबीसीडी व चेक डैम बना कर खेतों को फिर से हरा भरा बनाया जाएगा।
इस अवसर पर वन क्षेत्र पदाधिकारी , गुवा‌ श्री कमलेश्वर प्रसाद सिन्हा, वन विभाग के कर्मचारियों एवं ईको विकास समिति, चिड़िया के अध्यक्ष श्री लक्ष्मण सामद, चिड़िया के मुंडा श्री विजय लागुरी, टीमरा, सदाटीमरा, लोरो के मुंडा उपस्थित थे।