जनता कर्फ्यू रहा असरदार, सड़कों पर पसरा रहा सन्नाटा

-शाम 5 बजे लोगों ने ताली, थाली, घंटी, शंख बजाकर प्रधानमंत्री के आह्वान का किया समर्थन
गोड्डा से अभय पलिवार की रिपोर्ट
गोड्डा : नोबेल कोरोना वायरस के चेन को तोड़ने के लिए प्रधानमंत्री के आह्वान पर रविवार को आहूत जनता कर्फ्यू गोड्डा जिला में स्वत: स्फूर्त ढंग से सफल रहा। शहर से लेकर गांवों तक जनता कर्फ्यू के समर्थन में लोग अपने घरों से बाहर नहीं निकले। सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। दुकानें बंद रही। बस स्टैंड वीरान रहा। गाड़ियों की आवाजाही नहीं होने के कारण ध्वनि प्रदूषण नियंत्रित रहा।
भयावह वैश्विक महामारी बन चुकी नोबेल कोरोना वायरस के चक्र को तोड़ने के लिए आम जनता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान का दिल खोलकर समर्थन किया। जनता कर्फ्यू के दौरान पुलिस को जरा भी कहीं बल प्रयोग करने की जरूरत नहीं पड़ी। लोग स्वयंमेव तरीके से जनता कर्फ्यू का समर्थन करते नजर आए। लोगों के घरों से नहीं निकलने के कारण जिला मुख्यालय गोड्डा की सड़कें वीरान रहीं। बहुत जरूरत पड़ने पर ही कभी-कभार इक्का-दुक्का लोग ही सड़कों पर चलते नजर आए। वाहनों की गड़गड़ाहट एवंं हॉर्न की आवाजें सुनाई नहीं पड़ी।
जिला मुख्यालय के अलावे प्रखंड मुख्यालयों एवं ग्रामीण इलाकों में भी जनता कर्फ्यू को अभूतपूर्व समर्थन मिला। जानलेवा कोरोना वायरस के चेन को तोड़ने के लिए लोगों ने घरों से निकलना मुनासिब नहीं समझा।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर अमल करते हुए संध्या 5 बजे लोगों ने कोरोना वायरस को मात देने के लिए लगी डॉक्टरों एवं शिक्षा कर्मियों की टीम, सफाई कर्मियों आदि की बेहतरी के लिए अपने घर के बाहर या छत की बालकोनी पर चढ़कर ताली, थाली एवं घंटी बजाना शुरू कर दिया। कुछ लोग शंख ध्वनि भी कर रहे थे। इससे पूरा शहरी क्षेत्र एवं ग्रामीण इलाका गुंजायमान हो रहा था।
जिला के पुलिस कप्तान शैलेंद्र प्रसाद वर्णवाल के आदेश पर अमल करते हुए पुलिस अधिकारी एवं कर्मी भी अपने दोपहिया वाहनों से शहर के मुख्य चौक चौराहों पर उपस्थित होकर हॉर्न बजा रहे थे।