जिले के विभिन्न प्रखंड़ों का श्रम मंत्री ने किया दौरा, क्वारेंटाइन सेंटारों में जाकर प्रवासी मजदूरों से मिले

कहा सभी को राज्य में मिलेगा काम, इनके बदौलत झारखंड की तस्वीर और तकदीर अब बदलेगी
इटखोरी/कान्हाचट्टी/मयूरहंड। राज्य के श्रम नियोजन एवं प्रशिक्षण मंत्री सत्यानंद भोगता मंगलवार को जिले के इटखोरी, कान्हाचट्टी व मयूरहंड प्रखंड का किया दौरा। मंत्री ने इस दौश्रान उपरोक्त प्रखंडों के दर्जनों क्वॉरेंटाइन सेंटर का निरीक्षण कर वहां रह रहे लोगों का हाल जाना और उन्हें मास्क व खाद्य सामग्री उपलब्ध कराया। साथ ही मुख्यमंत्री दीदी किचन योजना को बेहतर भोजन उपलब्ध कराने का निर्देश दिया। इसके अलावे सभी समस्याओं के निराकरण हेतु संबधित पदाधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिया। मंत्री श्री भोगता क्षेत्र भ्रमण के बाद कान्हाचट्टी प्रखंड कार्यलय के प्रखंड कर्मियो के साथ बैठक कर प्रखंड में सभी क्वॉरेंटाइन सेंटरों में समूचीत व्यवस्था करने का निर्देश दिया। मंत्री ने आगे कहा कि विभिन्न स्थानों से 74 ट्रेन से सैंकड़ों की संख्या में प्रवासी मजदूर वापस आए हैं, ऐसे में श्रम विभाग के द्वारा मजदूरों को सरकारी सुविधा मुहैया करने के साथ-साथ उनको रोजगार से जोड़ने का पहल किया जा रहा है। हेमंत सोरेन के नेतृत्व में राज्य सरकार मजदूरों को काम दिलाने के साथ उनके काल्यण के लिय वचनबद्ध है। दूसरे राज्यों में फंसे झारखंड के प्रवासी मजदूरों को राज्य सरकार उनके घर तक पहुंचाने में लगी है। संकट के इस समय में दूसरे राज्यों को सवारने का काम झारखंड़ के प्रवासी मजदूरों ने किया है। अब प्रवासी कामगारों के बदौलत झारखंड़ की तस्वीर और तकदीर बदलेगी। उन्होंने आगे कहा की ग्रामीण क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर मजदूरों की वापसी होगी, जिस कारण उनके भोजन की व्यवस्था करना सरकार के लिए चुनौती है। सरकार भोजन की व्यवस्था सुनिश्चित हो इसके लिए विभिन्न प्रकार के योजनाएं संचालित कर रही है।