पत्रकारों को मिले कोरोना योद्धा फ्रंटलाइन का दर्जा: नीरज मंडल

रामगढ : आजसू पार्टी नगर सचिव नीरज मंडल एवं समाजसेवी रानी प्रियंका वार्ड नं 5 छावनी परिषद ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार से मांग करते हुए कहा कि जब किसी दबंग व्यक्ति द्वारा आपके अधिकार का हनन किया जाता है तब सभी को एक पत्रकार की जरूरत पड़ती है। या जब प्रशासन में किसी कर्मचारी द्वारा आप परेशान किए जाते हैं जब आप अपनी बात प्रशासन तक पहुंचाना चाहते हैं,। जब कोई लेखापाल कोटेदार प्रधान या किसी अन्य व्यक्ति द्वारा आपका हक छीनने की कोशिश की जाती है, जब आप किसी राजनेता अधिकारी के साथ किसी विशेष कार्यक्रम को करते हैं, जब आपको समाज में व्याप्त बुराइयों को दूर भगाने की चिंता होती है ,जब आप अपने बच्चों को स्कूल भेजते हैं और वहां उससे अध्यापक या किसी अन्य बच्चे द्वारा मानसिक यातनाएं दी जाती है, जब आप खेती करते हैं और किसी कारणवश आप की फसल का नुकसान हो जाता है। तब आपको अपनी बात प्रशासन तक पहुंचाने के लिए, घर पर बैठ कर पूरे विश्व में क्या हो रहा है या जानकारी के लिए, जब आपको किसी भी सरकारी योजना का फायदा नहीं मिल पाता है तब आपको अपनी बात रखने के लिए एक पत्रकार की जरूरत पड़ती है, फिर पत्रकारों के विषय में कोई भी सरकार या राजनेता उनकी बात क्यों नहीं करता ।कुछ कहने के बारे में सोचिए हम यह नहीं कहते कि हम अच्छे हैं लेकिन सब के सब गलत होते हैं या गलत बात है एक बिना सैलरी का काम करने वाला व्यक्ति आपको पूरा दिन और कभी-कभी तो पूरी रात जागकर तो कभी धूप तो कभी बरसात में भी कर आपको खबर उपलब्ध कराता है तो क्या उसे सम्मान मिलने का अधिकार है या नहीं । आजसू पार्टी नगर सचिव नीरज मंडल एवं समाजसेवी रानी प्रियंका ने केंद्र सरकार और राज्य सरकार से सभी पत्रकार बंधुओं को कोरोना योद्धा के रूप में फ्रंटलाइन वर्कर्स के रूप में दर्जा देने की मांग की है । और साथ ही करोना महामारी में मृतक पत्रकारों के परिवार को 50 लाख की मुआवजा राशि देने की मांग की है एवं सभी पत्रकार को 50 लाख की इंसुरेंस सरकार अपने फंड से करवाने की घोषणा करें ।ताकि सभी पत्रकार को उनको सही सम्मान मिल सके ।