चक्रधरपुर के समाजसेवी करण महतो, जिन्होंने आज अपने जीवन मे 43वां रक्तदान किया

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर: कहा जाता है कि रक्तदान जीवनदान है। खून की कमी से जूझ रहे मरीजों की जिंदगी बचाने के लिए रक्तदान से बड़ा कोई पुण्य नहीं है। शहर में भी ऐसे कई मसीहा हैं, जो सालों से रक्तदान करके जरूरतमंद मरीजों को जिंदगी दे रहे हैं। इनमें से एक चक्रधरपुर के चर्चित समाजसेवी एवं टोटेमिक कुड़मी समाज के सचिव करन महतो जी है। जिन्होंने आज टोटेमिक कुड़मी समाज द्वारा डॉ अमित महतो के श्रधांजलि अर्पित करने हेतु रक बिशेष रक्तदान शिविर सराईकेला ब्लड बैंक में 43वां रक्तदान किया। इनसे पहले कई संस्थाओं में रक्तदान कर चुके है। करण महतो ने कहा की जब भी रक्तदान करता हूँ बेहद खुसी मिलती है। इस खुसी की कोई बराबर नही है।