शिक्षक दिवस पर विशेष : कैसे सुधरेगा बच्चों का भविष्य, जब शिक्षक ही मध्यान भोजन के रिपोर्ट बनाने में रहते हैं व्यवस्त!

जिले के सरकारी स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था हो रही है चौपट

डीसी के आदेश का भी नहीं हो रहा है पालन

सरकार के लाख प्रयास के बाद भी नहीं हो रहा है शिक्षा में गुणात्मक विकास 

गुमला। झारखंड राज्य में सर्व शिक्षा अभियान एवं मानव संसाधन विकास विभाग के द्वारा स्कूलों में गुणात्मक शिक्षा के लिए अनेकों प्रयास किए जा रहे हैं लेकिन गुमला जिले में शिक्षा विभाग के अधिकारियों की लापरवाही पूर्ण कार्यकलापों के कारण शिक्षक मनमानी पूर्वक कार्य से नहीं हिचकते। इस बात की जानकारी जिले के शिक्षा विभाग के वरीय अधिकारियों को भी है। लेकिन वह शिक्षकों के टालमटोल के झांसे में आ जाते हैं। गुणात्मक शिक्षा गुमला जिले में चौपट होती नजर आ रही है स्कूलों में शिक्षण कार्य के जगह सिर्फ मध्यान्ह भोजन एवं अनुश्रवण का कार्य में दिनभर शिक्षक व्यस्त रहते हैं जिसके कारण सरकारी स्कूलों के बच्चों के पठन-पाठन की स्थिति दयनीय बनी हुई है। यह गौर करने वाली बात है कि शिक्षा विभाग के अधिकारी भी शिक्षकों से सांठगांठ कर उन्हें बचाने का प्रयास करते रहे हैं।जब के शिक्षा विभाग के अधिकारी एवं पदाधिकारी तथा संकुल स्तरीय कर्मियों का द्वारा प्रत्येक दिन स्कूलों का निरीक्षण रिपोर्ट उपायुक्त को सौंपा जाने का निर्देश भी दिया है। गुमला जिले में उपायुक्त के आदेश का भी शिक्षा विभाग के स्कूलों में देखने को नहीं मिल रही है सभी अधिकारी एवं पदाधिकारी एवं संकुल स्तरीय साधन सेवी घर बैठे ही रिपोर्ट बनाकर सरकार और प्रशासन तथा शिक्षा विभाग को गुमराह बनाने का कार्य किया जाता रहा है। अनुश्रवण के नाम पर कागजी रिपोर्ट बनाना शिक्षा विभाग के कर्मियों का पेसा बन गया है। ऐसे में सरकार शिक्षा के गुणात्मक विकास के लिए लाख प्रयास करें भी तो शिक्षा में सुधार संभव नहीं लग रहा है। झारखंड मुक्ति मोर्चा के केंद्रीय कमेटी के सदस्य और सिंस ई विधानसभा के प्रभारी जिग़्गा मुंडा, झारखंड मुक्ति मोर्चा गुमला प्रखंड अध्यक्ष जगदीश साहू, झारखंड विकास मोर्चा प्रजातांत्रिक के गुमला जिला अध्यक्ष सुजीत नंदा, महासचिव महेंद्र उरांव, झारखंड विकास मोर्चा प्रजातांत्रिक के गुमला जिला के सदस्यता अभियान के प्रभारी निलेश तिर्की, कांग्रेस पार्टी के वरीय नेता अल्बर्ट तिग्गा, बसिया के जिला परिषद के सदस्य चैतू उरांव,जिला परिषद सदस्य बसिया जसिंता बारला, तेली उत्थान समाज के केंद्रीय अध्यक्ष उदासन नाग,गुमला जिला अध्यक्ष राम साहू, बिंदेश्वर साहू कैलाश नाग जारी के जिला परिषद के सदस्य सरोज हेंब्रम लाकड़ा झारखंड मुक्ति मोर्चा के वरीय नेता अरविंद कच्छप आदि अन्य कई नेताओं ने प्रतिक्रिया देते हुए गुमला जिले के शिक्षा व्यवस्था पर चिंता प्रकट किया है और शिक्षा में गुणात्मक विकास के लिए शिक्षा विभाग के अधिकारी कर्मचारी शिक्षकों को अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने की अपील की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *