खुुला कार्यालय: समाहरणालय परिसर में लोगों में दिखा सोशल डिस्टेंसिंग का असर

जामताङा: कोरोना वायरस के लॉक डाउन टू के दौरान सोमवार 20 अप्रैल को जिला स्तर के सभी कार्यालय खुल गए। परंतु कार्यालय के मुख्य द्वार पर रेड रीबन लगा था और बैंकों के मुख्य द्वार की तरह समाहरणालय का मुख्य द्वार आधा से भी कम खुला हुआ था। अंदर प्रवेश करने पर विभिन्न विभागों के बाहर सामाजिक दूरी बनाये रखने के लिए गोल घेरा बनाया गया था। जिला निर्वाचन शाखा में पदाधिकारी रामवृक्ष महतो व विजय केरकट्‌टा कर्मियों को निर्देश दे रहे थे। इस दौरान सभी मास्क लगाये हुए थे और एक दूसरे से काफी दूरी बनाकर बैठे हुए थे। कमोवेश यहीं स्थिति जिला भू अर्जन कार्यालय का भी था। यहां कर्मियों के लिए रोस्टर बनाया गया है। पहले सिफ्ट में चार कर्मी को एक सप्ताह तक कार्य करना है जबकि दूसरे सप्ताह में तीन कर्मियों को एक सप्ताह तक कार्य करना है। जिला नजारत में सभी कर्मी नाजीर मनोज के निर्देश पर काफी दूर दूर अलग केबिन में बैठकर कार्य कर रहे थे। सभी ने अपने चेहरे को मास्क से ढक कर रखा था। समाहरणालय के पहले तल्ले पर जिला आपूर्ति पदाधिकारी कंचन कुमारी भुदोलिया फाईलों का निष्पादन कर रही थी। इन दिनों जिला आपूर्ति का कार्य काफी बढा हुआ है। जिले के सभी पीडीएस दुकान में अनाज उपलब्ध कराने के अलावे मुख्यमंत्री दाल भात केंद्र, मुख्यमंत्री दीदी केंद्र में व थाना में संचालित भोजन की व्यवस्था के लिए अनाज उपलब्ध कराना इनकी जिम्मेवारी है। जिस कारण से इस विभाग का कार्य बढ गया है। जिला आपूर्ति पदाधिकारी के निर्देश पर सहायक गणेश दास व रीमा सिन्हा सहित अन्य कर्मी कार्यो के निष्पादन में लगे हुए थे। पूर्व में जहां सभी कर्मी एक दूसरे के करीब बैठ कर कार्य किया करते थे उनकी टेबुल आपस में सटा होता है उसमें सोमवार को दूरी देखा गया। जिला शिक्षा पदाधिकारी बांके बिहारी सिंह भी मास्क लगाकर कार्यालय में मौजूद थे। उनके कार्यालय में प्रवेश के लिए और कर्मियों को लाने के लिए सम्यक दूरी निर्धारित थी। इसी प्रकार आरईओ में भी कर्मी आपस में दूरी बनाकर कार्य कर रहे थे। लंबे समय के बाद सरकारी कार्यालयों के खुलने के बावजदू लोगों की उपस्थिति नगण्य रहीं। समाहरणालय कर्मी केवल सरकार के स्तर से निर्धारित कार्य का निष्पादन करते हीं दिखे। डीआरडीए में डीडीसी के अलावे अन्य कर्मी मोतिउर रहमान, संदीप कुमार, सेमुअल कश्यप, ओम कृष्ण ठाकुर, विपुल सिन्हा, निरज, सुनील साव, मुन्ना, शशि सहित अन्य कर्मी सरकारी कार्यो का निष्पादन करते दिखे। सभी मास्क लगाये हुए थे और एक दूसरे से काफी दूरी बनाये हुए थे। जानकारी के अनुसार कुछ कार्यालयों में कर्मी के पास पहुंचने के पहले हीं रस्सी लगाकर प्रोपर दूरी बनाया गया था। ताकि कोई भूल से भी किसी के संपर्क में नहीं आ सके। उल्लेखनीय है कि पीएम मोदी के जान भी जहान भी के तहत यह कार्य कार्यालयों में प्रारंभ किया गया है। ताकि लोगों के हित में कार्य सरकार के स्तर से संपादित किया जा सकें और उसका लाभ लोगों को मिल सकें।