श्रम मंत्री ने की जिले में संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा

पदाधिकारियों को दिए कई आवश्यक निर्देश
चतराः मंगलवार को समाहरणालय स्थित सभा कक्ष में राज्य के श्रम, नियोजन व प्रशिक्षण तथा कौशल विकास मंत्री सह चतरा विधायक सत्यानंद भोक्ता जिले में संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा पदाधिकारियों संग बैठक कर की। बैठक का संचालन उपायुक्त अंजली यादव ने किया। सर्वप्रथम उपायुक्त ने मंत्री स्वागत किया। उसके बाद बैठक में मुख्य रूप से प्रधानमंत्री आवास योजना, अम्बेडकर आवास, मनरेगा के तहत संचालित व डीएमएफटी के तहत स्वीकृत योजनाओं के साथ पेयजल, विद्युत, आपूर्ति, नगर परिषद, आदर्श ग्राम योजना, सिंचाई, समाजिक सुरक्षा, समाज कल्याण, उत्पाद, खनन आदि विभागों के कार्यें की क्रमवार मंत्री ने समीक्षा की। मंत्री ने समीक्षा के उपरांत वैसे लंबित आवासों का भुगतान व कार्य जल्द पूर्ण करने, आवास प्लस के तहत रिक्त आवास को जल्द स्वीकृत करने, मनरेगा के तहत जिले में किए जा रहे कार्यों की सराहना करते हुए आगे भी इसी तरह कार्य जारी रखने के निर्देश दिए। वहीं मंत्री ने डीएमएफटी के तहत स्वीकृत योजनाओं क्रियान्वयन को लेकर कई आवश्यक निर्देश दिए। चतरा शहरी जलापूर्ति को लेकर कार्यपालक अभियंता को पेयजल सुनिश्चित कराने के साथ भेड़ि फार्म, डाहुरी समेत अन्य डैम का उपयोग जलापूर्ति हेतु करने को लेकर योजना बनाने का निर्देश दिया। इसके अलावे जिले में घर-घर पेयजलापूर्ति को लेकर बिछाए जा रहे पाईप लाइन के पश्चात सड़क मरम्मत करने का भी निर्देश दिया गया। सामाजिक सुरक्षा के तहत 80 हज़ार 293 लोगों को पेंशन का लाभ दिए जाने की जानकारी मंत्री को दी गई, जिसपर मंत्री ने प्रखंड स्तर पर कैम्प लगाकर आदिम जनजाति, बिरहोर, आदिवासी समेत अन्य को वृद्धा एवं अन्य पेशन आदि का लाभ देने का निर्देश दिया। साथ ही टाना भगत एवं उनके क्षेत्र में विकास कार्य को प्राथमिकता देने को कहा गया। पशुपालन पदाधिकारी को आदिम जनजातियों को चिन्हित कर उन्हें पेंशन, पशुधन योजना आदि लाभ देने का निर्देश दिया। विद्युत विभाग के कार्यपालक अभियंता ने बताया कि चोरकारी ग्रिड लगभग पूर्ण है, परंतु ग्रिड को चालू करने में तकनीकी समस्या हो रही है। जिसपर मंत्री ने जेयूएसएनएल से बात कर जल्द से जल्द चालू करने का निर्देश दिया। उत्पाद, खनन व परिवहन विभाग द्वारा किए जा रहे रेवेन्यू कलेक्शन की समीक्षा करते हुए मंत्री ने तय लक्ष्य के अनुरूप रेवेन्यू कलेक्शन का निर्देश दिया। वहीं आदिम जाति, जनजाति, आदिवासी, समेत अन्य को प्राथमिकता के आधार पर कन्यादान योजना का लाभ देने का निर्देश दिया गया। वहीं जो गरीब इलाज हेतु सक्षम नही हैं, उनके इलाज हेतु विभिन्न योजनाओं के तहत प्राथमिकता के आधार पर सहयोग करने की बात कही। मंत्री ने प्रखंड मुख्यालय में भी डॉक्टर की उपस्थिति सूनिश्चित करने का कहा। श्रम विभाग की समीक्षा करते हुए मंत्री ने श्रम अधीक्षक को विवाह सहायता योजना, औजार किट सहायता योजना, कन्यादान योजना समेत अन्य का लक्ष्य बढ़ाते हुए अधिक से अधिक लाभुकों को सरकारी योजनाओं का लाभ देने का निर्देश दिया। इसके अलावे राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत विभिन्न राशन कार्ड धारकों को ससमय एवं तय मात्रा में राशन देने के अलावे लाभुकों को डोर टू डोर डिलीवरी, प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत मुफ्त 5 किलोग्राम राशन, साड़ी-धोती योजना को लेकर भी आपूर्ति पदाधिकारी को दिशा निर्देश दिया। वहीं मंत्री ने वैसे किसान जिनसे धान प्राप्ति के पश्चात भी अब तक राशि का भुगतान नही किया गया है, उन्हें जल्द राशि भुगतान कराने का निर्देश दिया। अंत में डीडीसी सुनील कुमार सिंह ने मंत्री का धन्यवाद ज्ञापन करते उनके द्वारा लगातार विकास कार्य में मिल रहे सहयोग एवं मार्गदर्शन को लेकर आभार व्यक्त किया। बैठक में मुख्य रूप से डीसी व डीडीसी के अलावे एसी संतोष कुमार सिन्हा, निदेशक डीआरडीए अरुण कुमार एक्का, एसडीओ मुमताज अंसारी समेत जिला स्तरीय कार्यालय प्रधान एवं अन्य संबंधित मौजूद थे।