बिहार के मजदूर झारखंड में मनरेगा योजना का कर रहे काम

– मामला महागामा प्रखंड के जियाजोरी पंचायत का
जावेद अख्तर की रिपोर्ट
हनवारा : महागामा प्रखंड के जियाजोरी पंचायत में मनरेगा योजना से बन रहे कुआं निर्माण में बिहार राज्य के मजदूरों से काम कराए जा रहे हैं।इस संबंध में ग्रामीणों ने उपायुक्त को पत्र प्रेषित कर जांच की मांग की है।
ग्रामीणों ने बताया है कि कुंआ निर्माण में स्थानीय मजदूरों से काम नहीं करा कर बिहार के कहलगांव प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत धनोरा पंचायत के कटोरिया गांव के मजदूरों से काम कराया जा रहा है। लेकिन स्थानीय मजदूरों के नाम से डिमांड डाल कर पैसे की निकासी हो रही है। जबकि कोरोना काल में स्थानीय स्तर पर मजदूरों को रोजगार देने का प्रावधान है।
लेकिन यहां सरकार एवं जिला प्रशासन के निर्देशों को ठेंगा दिखाते हुए 40 किलोमीटर दूर बिहार से मजदूरों को लाकर काम लिया जा रहा है।ग्रामीणों का कहना है कि बरसात के मौसम में कुंआ का निर्माण कार्य नहीं होना चाहिए। लेकिन यहां आनन-फानन में कुआं का निर्माण कार्य हो रहा है। जबकि चक्रवर्ती तूफान और मानसून आगमन के साथ ही मूसलाधार बारिश हुई है जिससे नदी, नाले, खेत, तालाब, बांध, डांड और कुआं पानी से लबालब भरा पड़ा है। ऐसे में मनरेगा योजना के द्वारा उक्त पंचायत में कुआं का निर्माण कार्य कैसे चल रहा है?
एक कुआं का निर्माण एनटीपीसी के जमीन पर हो रहा है। ग्रामीणों ने बताया कि कुंआ निर्माण कार्य में गुणवत्ता की अनदेखी कर काम किया जा रहा है। चिमनी ईंट के जगह लोकल ईंट लगाया जा रहा है, जो निम्न दर्जे की है। ईंट जोड़ाई में बालू के जगह डस्ट का इस्तेमाल किया जा रहा है।सीमेंट की मात्रा कम और डस्ट की मात्रा अधिक मिली हुई मसाले का इस्तेमाल हो रहा है। जिसके कारण ईंट जोडाई के साथ ही दरारे आने लगी है। ग्रामीणों ने बताया कि योजना में अधिक से अधिक मुनाफा अर्जित करने के मकसद से मुखिया मोहम्मद सईद अंसारी और पंचायत सचिव गौरव कुमार की मिलीभगत से घटिया कार्य कराया जा रहा है।

क्या कहते हैं मजदूर

कुआं निर्माण कर रहे बिहार के मजदूरों ने बताया कि मुखिया सईद के कहने पर काम कर रहे हैं ‌।एक लाख 30 हजार रुपए में लेबर कांटेक्ट लिए हैं। बाकी मटेरियल मुखिया द्वारा उपलब्ध कराया जाता है। पंचायत में छह कुआं का निर्माण कर चुके हैं। इसके अलावे प्रखंड के विभिन्न पंचायतों में भी कुआं का निर्माण कार्य किए हैं। बिहार से आकर महागामा प्रखंड में काम करनेे में कोई दिक्कत नहीं है। सब कुछ मैनेज है।

क्या कहते हैं बीडीओ

कुआं निर्मााण में बिहार के मजदूरों से काम लिए जाने के संबंध में पूछेे जाने पर प्रखंंड विकास पदाधिकारी प्रवीण कुमार चौधरी ने कहा कि यह बिल्कुल गलत है। मामलेे की जांच कर कार्रवाई की जाएगी। इसमें जो भी दोषी होंगेेे, उसके विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी।