लातेहार: वित्त मंत्री सत्ता के नशे में भूल गए हैं, कि प्रत्यक्ष को प्रमाण की जरूरत नहीं होता: पारा शिक्षक संघ

लातेहार: एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा लातेहार के जिला अध्यक्ष अतुल कुमार एवं महासचिव अनुप कुमार ने सूबे के वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव के प्राइवेट स्कूल सरकारी स्कूल से बेहतर है कि कड़े शब्दों में निंदा करते हुए उनकी सोच की आलोचना की है। नेताद्वय ने कहा कि आज पूरे झारखंड के कोने कोने में हमारी बदौलत ही हर एक गरीब बच्चा प्राथमिक शिक्षा प्राप्त कर खुद को हमारी बदौलत साक्षर कर रहा है और ऐसे में हमारा हौसला बढ़ाने के बदले निंदा करना और निजीकरण का समर्थन करना माननीय की सोच को दर्शाता है। वो सत्ता के नशे में भूल गए है कि प्रत्यक्ष को प्रमाण की जरूरत नही होती है। वो अपने कार्यकताओं से पूछ लें कि सरकारी विद्यालय के कारण जन जन तक शिक्षा पहुँचाने का कार्य हम सभी शिक्षकगण ही वर्षो से करते आये है ये उनकी ढलती उम्र और बौखलाहट का नतीजा है कि वो उलूल जुलूल मन्तव्य दे रहे है। मंत्री के बयान की निंदा करने वालो में प्रदेशाध्यक्ष ऋषिकेश पाठक संगठन मंत्री प्रमोद पांडेय उपाध्यक्ष बेलाल अहमद कुमार संजय सिंह अभिनव मिश्रा अरविंद कुमार मनोज शहाय बबलू सिंह रुद्रप्रताप सिंह आशीष लाल शाहदेव ओमप्रकाश क्षत्रिय प्रवीण सिंह मनोज मिंज चन्द्रशेखर यादव भूपेंद्र कुमार शिवशंकर तिवारी पवन यादव महाभारत भगत प्रमोद यादव समोधी यादव गुलाम अनवर भुनेश्वर राम सत्यनारायण ठाकुर विजय यादव सुभाष गुप्ता उमेश गुप्ता उमेश साहू भुनेश्वर पांडेय सिंह सिंह विनोद मिश्रा राजेश यादव सन्तोष राम मिथलेश यादव कमलेश यादव अशोक गुप्ता पंकज कुमार गोविंदा कुमार गजेंद्र गिरी मनीष पांडे दिलीप प्रसाद सतेंद्र यादव राजदेव राम दिनेश ठाकुर निर्मल यादव अमरेंद्र सिंह अमित सिंह समेत जिले के सभी शिक्षको ने निंदा की है।