लॉक डाउन के बीच खरीदारी को उमड़ी भीड़, यात्री वाहनों का परीचान रहा बंद

चतरा/पत्थलगडा। नोवेल कोरोना वायरस की सतर्कता को लेकर राज्य में लागू किए गए लॉक डाउन का आंशीक असर जिला मुख्यालय व अन्य प्रखंडों में देखने को मिला। दुसरी ओर कोरोना वायरस व सरकार के लाॅक डाउन की घोषणा से लोग परेशान जरूर हैं। उनकी परेशानी का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि, 23 मार्च को शहर व प्रखंड मुख्यालयों में दुकानें जैसे ही खुली, खरीदारी के लिए टूट पड़े लोग। खाद्य सामग्री, साग-सब्जी और फलों की दुकानों पर अप्रत्याशित भीड़ देखने को मिली। हालांकि जैसे ही पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को इसकी जानकारी मिली, वे दलबल के साथ पहुंचे और आवश्यक दुकानों को छोड़कर शेष सभी को बंद करवा दिया। वहीं दुसरी ओर यात्री वाहनों का परिचालन जिले में पूर्ण रुपेण ठप है। टेपों एवं दूसरे वाहनों का भी परिचालन नहीं हो रहा है। बस और टैक्सी स्टैंडों में सन्नाटा पसरा हुआ है। जबकी सरकारी दफ्तर बंद रहे। सरकार के निर्देशानुसार अधिकांश अधिकारी अपने-अपने घरों से ही आवश्यक कार्यों का निष्पादन कर रहे हैं। जिले के सिमरिया, लावालौंग, कुंदा, प्रतापपुर, हंटरगंज, कान्हाचट्टी, गिद्धौर, इटखोरी, मयूरहंड व पत्थलगड्डा समेत औद्योगीक नगरी टंडवा क्षेत्र में भी पदाधिकारियों द्वारा दुकानें बद कराई गई। जबकी वाहनों का परिचालन बंद रहा। जिला प्रशासन लगातार लोगों से बिना काम घरों से बाहर नहीं निकलने और दूसरों को भी घरों में रहने के लिए जागरूक करने की अपील कर रही है। ताकी लोगों अनावश्यक घर से निकले नही और लोगों की भीड़ नही लगे।