लाॅकडाउन का फायदा : समाजशास्त्रियों के राय में

रांची:हमारे देश में कोरोना (COVID -19) वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण 14 अप्रैल 2020 तक लाकडाउन किया गया है,साथ ही सामाजिक दूरी भी बना के रखना है,जिसका पालन करना हमसभी देश वासियों का प्रथम कर्तव्य है।वैश्विक स्तर पर आज इटली, अमेरिका, स्पेन,ईरान आदि देशों जैसी स्थिति हमारे देश में उत्पन्न न हो,इसके लिए सरकार द्वारा निर्गत की जा रही दिशा निर्देश का अक्षरशः पालन करना चाहिए।
लाकडाउन की अवधि में,समाजशास्त्रिय दृष्टिकोण से आप कई मायने में लाभान्वित हो सकते हैं।समाजशास्त्री डॉक्टर संजय कुमार झा का कहना है कि इस लाकडाउन की अवधि में आप पारिवारिक समस्याओं का निवारण कर सकते हैं,यथा-दाम्पत्य जीवन में बढते दूरी को समाप्त कर विवाह विच्छेद की समस्या को कम कर सकते हैं।जिंदगी के बढते भाग दौड़ में अपने बच्चों का समाजीकरण कर सकते हैं।नातेदारी सबंधो को दूरभाष पर वार्तालाप कर बढ़ते दूरियों को सींच सकते हैं और उसमें घनिष्ठता लाया जा सकता है।कहा जाता है कि “परिवार मनोरंजन का स्वस्थय् केन्द्र होता है”।इसलिए स्वस्थय् मनोरंजन का आनंद लें।घर बैठे रचनात्मक और सृजनात्मक कार्य कर समाजिक व्यवस्था में अनेक प्रकार्यात्मक भूमिका अदा किया जा सकता है।अतः देशहित के साथ साथ स्वंय के हित हेतु इस लाकडाउन की अवधि में अपने अपने घर में रहते हुए सामाजिक अनुकुलता को बनाए रखें।दैनिक आवश्यकता के समान खरीदने के लिए जब भी घर से बाहर जाय मास्क का प्रयोग करते हुए सामाजिक दूरी बनाए रखें और लाकडाउन अवधि का सामाजिक फायदे उठाने का प्रयास करें।