मेहरमा अंचल नाजिर को एसीबी टीम ने 5 हजार रिश्वत लेते रंगे हाथ किया गिरफ्तार

– वंशावली बनाने के एवज में मांगी गई थी रिश्वत

विजय कुमार की रिपोर्ट

मेहरमा : एंटी करप्शन ब्यूरो ( एसीबी) की टीम ने मंगलवार को मेहरमा अंचल के नाजिर मिथलेश कुमार को रिश्वत लेते कार्यालय से रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया । एसीबी की टीम गिरफ्तार नाजिर को अपने साथ दुमका लेकर चली गई।
क्या है मामला: मेहरमा प्रखंड के धनकुडिया गांव निवासी कमलेश्वरी यादव से वंशावली बनाने के एवज में नाजिर ने 5 हजार रुपये रिश्वत मांगा था। इसकी शिकायत पीडित ने एसीबी में एक सप्ताह पूर्व दर्ज कराई थी। जिसके बाद एसीबी के अधिकारियों ने मामले की पड़ताल की। मामला सही पाकर एसीबी ने नाजिर को घूस लेते रंगे हाथों दबोच लिया।
बताया जा रहा है कि एसीबी टीम मंगलवार दोपहर करीब 12 बजे मेहरमा अंचल के पास पहुंची और अपना जाल बिछा दिया था। शिकायतकर्ता मांगी गई रिश्वत की राशि लेकर मेहरमा अंचल नाजिर को देने के लिए पहुंचा उसी दौरान अंचल नाजिर को रंगे हाथों पैसा लेते ही एसीबी की टीम ने धर दबोचा।

इधर नाजिर की गिरफ्तारी के बाद प्रखंड परिसर में अफरा-तफरी का माहौल बन गया। हालांकि एसीबी टीम नाजिर को गिरफ्तार कर अपने साथ दुमका लेकर चली गई है। आरोपी नाजिर से पूछताछ में एसीबी के अधिकारियों को बताया कि जिस व्यक्ति के द्वारा शिकायत दर्ज कराया गया है, वह मूल रूप से बिहार का रहने वाला है। उसके ससुराल के परिवार का वंशावली फाइल अंचल कार्यालय में पड़ा हुआ है। इस संबंध में एसीबी के अधिकारियों ने बताया कि पीड़ित के द्वारा लगभग एक सप्ताह पूर्व लिखित शिकायत दर्ज कराया गया था। उसी के आधार पर मामले की जांच किया गया। उसके बाद मंगलवार को कार्रवाई की गई है आरोपी नाजिर को गिरफ्तार कर दुमका ले जाया जा रहा है। कागजी कार्रवाई के बाद जेल भेज दिया जाएगा। एसीबी की टीम में डीएसपी लखन राम, विमलेश त्रिपाठी, एसीबी के पुलिस इंस्पेक्टर रामचंद्र रजक, शिवलाल टुडू, रामलाल उरांव समेत अन्य पुलिस बल शामिल थे।