मिल्खा सिंह ने देश के झंडे को दुनिया में ऊंचा किया था

– जिला फुटबॉल संघ ने महान धावक को दी श्रद्धांजलि

गोड्डा: जिला फुटबॉल संघ द्वारा महान धावक मिल्खा सिंह की आत्मा की शांति के लिए अध्यक्ष श्री जय किशोर ठाकुर अधिवक्ता की अध्यक्षता में एक शोक सभा का आयोजन स्थानीय गांधी मैदान में किया गया। दो मिनट का मौन रखकर उनकी आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की गई।
इस अवसर पर अजीत कुमार सहाय ने कहा कि मिल्खा सिंह एक खास शख्सियत थे, जिनका जन्म 1929 में पंजाब सूबे के गोविंदपुर (अब पाकिस्तान) में हुआ था। उन्होंने मिलिट्री में नौकरी की। एक महान धावक बने। एशियन गेम एवं कॉमनवेल्थ गेम में स्वर्ण पदक जीता तथा रोम ओलंपिक 1960 में चौथा स्थान पाकर एक विश्व कीर्तिमान बनाया !उन्होंने देश के झंडे को दुनिया में काफी ऊंचा रखा। उन्हें भारत सरकार के द्वारा पद्मश्री से सम्मानित किया गया। उनकी मृत्यु 91 वर्ष की उम्र में हुई‌।
मौके पर अधिवक्ता रमन कुमार दुबे ने कहा कि वह महान सपूत थे। खेल के क्षेत्र में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय ख्याति हासिल की। रीना डे अधिवक्ता ने कहा कि मिल्खा सिंह राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता जीतकर देश को गौरवान्वित किया। जफर इकबाल ने उन्हें प्रेरणा स्रोत बताया। जिला फुटबॉल संघ के सचिव अबुल कलाम आजाद ने कहा कि उनके निधन से देश को काफी क्षति हुई। अध्यक्ष जय किशोर ठाकुर ने कहा कि मिल्खा सिंह देश के लिए अजीम शख्सियत थे। इस अवसर पर आशुतोष तिवारी ,अरुण कुमार मंडल ,शफीक आलम, शंभू राय, रघुनंदन प्रसाद साह आदि उपस्थित थे