राज्य के ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री ने दो योजनाओं का किया शुभारंभ

योजनाओं के शुभारंभ के साथ-साथ परिसंपत्ति का भी मंत्री ने किया वितरण
योजनाओं के शुभ आरंभ होने से महिला समूह और किसानों को आत्मनिर्भर बनने में मिलेगी मदद: मंत्री
पाकुड़: कोविड-19 के प्रकोप के बाद महिला समूह और किसानों के लिए राहत प्रदान करने वाली दो महत्वकांक्षी योजना हुनर परियोजना एवं चास हाट परियोजना का शुभारंभ राज्य के ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री व स्थानीय विधायक आलमगीर आलम ने जिला मुख्यालय के रविंद्र भवन में किया।जिला प्रशासन के द्वारा रविंद्र भवन में आयोजित किए गए आजीविका संवर्धन हेतु महत्वकांक्षी परियोजना का शुभारंभ एवं परिसंपत्ति का वितरण कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में पहुंचे राज्य के ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री आलमगीर आलम ने सबसे पहले कार्यक्रम का उद्घाटन दीप प्रज्वलित कर किया इसके बाद दो महत्वकांक्षी परियोजना क्रमश हुनर परियोजना एवं चास हाट परियोजना का शुभारंभ ऑनलाइन किया। योजना के शुभारंभ के बाद मंत्री आलमगीर आलम ने मौके पर मौजूद 128 पंचायतों के एक एक समूह के दीदीयों को सिलाई मशीन तथा बेकरी उद्योग के माध्यम से स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए बलियाडंगाल के एक समूह को 40000 का चेक प्रदान किया इसके साथ-साथ मंत्री ने 256 समूह को चक्रीय नीति के तहत 15-15 हजार का चेक प्रदान किया। के साथ-साथ मंत्री ने विभिन्न विभागों के द्वारा उपलब्ध कराए गए परिसंपत्तियों का भी वितरण किया। परिसंपत्ति वितरण करने के बाद मौके पर मौजूद जन समूह को संबोधित करते हुए मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि कोविड-19 के प्रकोप के बीच राज्य सरकार ने विकास की रफ्तार को बरकरार रखने का हर संभव प्रयास किया मनरेगा योजना हो या विकास व कल्याणकारी योजनाओं सभी योजनाओं के माध्यम से लोगों को रोजगार से जोड़ने का कार्य किया गया। उन्होंने कहा कि कोविड-19 का प्रकोप कम हो रहा है और इसी बीच किसानों और समूह की दीदियों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए आज दो महत्वकांक्षी योजना को प्रारंभ किया गया है। उन्होंने कहा कि यह दोनों योजना समूह की महिलाओं और किसानों के लिए मील का पत्थर साबित होगी। उन्होंने कहा कि हुनर परियोजना से जहां समूह की दीदियों को सिलाई कटाई से जोड़कर उन्हें आर्थिक रूप से संपन्न बनाया जाएगा तो वही चास हाट परियोजना के जरिए 8 हजार किसानों को जोड़ते हुए उनके लिए बाजार उपलब्ध करवाया जाएगा ताकि किसान भी पूरी तरह से आर्थिक रूप से संपन्न हो सकें। वही मौके पर मौजूद डीसी वरुण रंजन ने जिला प्रशासन की उपलब्धियों के साथ-साथ उक्त दोनों परियोजना के सफल क्रियान्वयन में जिला प्रशासन की भूमिका पर विषय रखते हुए कहा कि आज से प्रारंभ हो रही दो परियोजना में महिला समूह की दीदियों के साथ-साथ किसानों को जोड़कर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का हर संभव प्रयास किया जाएगा इसके साथ-साथ जिला में वर्तमान में कई योजना चलाई जा रही है जिसका सीधा लाभ यहां की आम जनता को मिल रही है। उन्होंने कहा कि किसानों की आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ बनाने के लिए जिला प्रशासन कृत संकल्पित है। वही मौके पर मौजूद डीडीसी अनमोल कुमार सिंह ने जहां सभी अतिथियों का स्वागत किया तो वही आईटीडीए निदेशक मो० शाहिद अख्तर ने धन्यवाद ज्ञापन किया। मौके पर अपर समाहर्ता मंजू रानी, सिविल एसडीओ पंकज कुमार ,सांसद प्रतिनिधि श्याम यादव ,कांग्रेस जिला अध्यक्ष उदय लखमानी, जेएसएलपीएस के डीपीएम प्रवीण मिश्रा समेत कई अधिकारी व कर्मी मौजूद थे।