मिट्टी का अवेद्ध उत्खनन कर रही महिलाओं पर गिरा मिट्टी का चाल तीन की मौत, यूडी केस दर्ज

जामताड़ा से राजकिशोर सिंह की रिपोर्ट

जामताड़ा : जामताड़ा जिला के नारायणपुर थाना क्षेत्र अर्न्तगत देवलबाड़ी पंचायत गोविंदपुर साहिबगंज स्टेट हाईवे के मंझलाडीह गांव के समीप पहाड़ी से सफेद मिट्टी के अवैध अवेद्ध उत्खनन कर रहे महिलाओं के ऊपर सोमवार को मिट्टी के चाल धंसने से तीन महिलाओं की मौत घटनास्थल पर हो गई। घटना की जानकारी मिलते हैं जिले के उपायुक्त फैज अक अहमद मुमताज जामताड़ा विधायक डॉक्टर इरफान अंसारी एसडीओ संजय पांडे अंचल अधिकारी केदारनाथ सिंह एसडीपीओ अरविंद उपाध्याय अंचल इंस्पेक्टर सुबोध प्रसाद यादव थाना प्रभारी अजीत कुमार घटनास्थल पर पहुंचे।

क्या है मामला

बताते चलें कि मंझलाडीह गांव के समीप पहाड़ी से महिलाओं द्वारा मिट्टी निकालने की कार्य करते हैं। जिसके कारण पहाड़ी में सुरंग बन गया है। यह मिट्टी महिलाओं घर की पुताई के लिए ले जाते हैं। हालांकि प्रशासन इसे अवैध करार दे रखा है। कई बार सुरंगों को प्रशासन द्वारा बंद करवाया गया। लेकिन फिर भी स्थानीय महिलाओं द्वारा मिट्टी खुदाई कर उसे सुरंग का रूप दे देता है।

पहले भी हो चुकी है घटना

थाना क्षेत्र में यह घटना पहली नहीं है इस तरह की घटना कई बार प्रखंड में घट चुकी है। 2012 में इसी जगह चाल धंसने से तीन महिलाओं की मौत हो चुकी है दो गंभीर रूप से घायल था। प्रशासन के बार.बार आग्रह करने के बावजूद भी स्थानीय महिलाओं द्वारा मिट्टी की अवैध खनन करती है।

महिलाओं मिट्टी का व्यापार भी करती है

बताते चलें कि महिलाओं द्वारा भारी मात्रा में सफेद मिट्टी खुदाई कर इकट्ठा करते हैं। और इसे गिरिडीह जिले मैं ले जाकर इनकी व्यापार भी करता है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार महिलाओं 1 किलो मिट्टी का मूल्य 20 से 25 रूपया लेती है। यह मिट्टी घर की पुताई मैं उपयोग किया जाता है। यह मिट्टी से बाल भी ग्रामीण क्षेत्र की के महिलाएं धोती है। भारी संख्या में महिलाएं आकर टेंपो द्वारा मिट्टी ले जाने का कार्य करती है।

शव को निकालने के लिए लगाया गया जेसीबी मशीन

शव को भारी मशक्कत के बाद प्रशासन द्वारा निकाला गया जिसमें एक.एक कर तीन जेसीबी मशीन का प्रयोग किया। जिसके बाद तीन महिलाओं का शव निकाला गया। तीनों को पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल जामताड़ा भेज दिया गया। वही और महिलाओं के दबे रहने की आशंका प्रशासन को है जिसके बाद भी खुदाई जारी है। हलॉकि इसे लेकर नारायणपुर थाना में यूडी केस दर्ज किये जाने की प्रक्रिया जारी है।

एक महिला की हो सकी पहचान

एक महिला की पहचान शहनाज खातून 27 वर्ष पति सद्दाम अंसारी ककड़ी बाद निवासी के रूप में हुई है इस महिला की दो बच्चे हैं वही दो महिलाओं की पहचान अभी तक नहीं हो पाया है ग्रामीणों का कहना है कि यह दोनों भी ककडिबाद के निवासी है।

क्या कहते है उपायुक्त

उपायुक्त फेज अक अहमद मुमताज ने कहा कि यह दुखद घटना है अभी तक प्रशासन द्वारा तीन महिलाओं का शव निकाला गया है। वही ग्रामीणों द्वारा और शव रहने की बात कही जा रही है। जिस पर प्रशासन जेसीबी मशीन से खुदाई का कार्य जारी रखा गया है। ऐसी घटना दोबारा ना हो जिस को लेकर प्रशासन द्वारा सभी सुरंगों को बंद करवाया जाएगा और इनका दायित्व थाना प्रभारी और सीओ को निगरानी में रखने की इजाजत दी जाएगी।

क्या कहते हैं विधायक

विधायक डॉक्टर इरफान अंसारी ने कहा कि यह घटना दुखद पूर्ण है। सभी महिलाएं गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं जिसको लेकर हमने मुख्यमंत्री से बात की है। सभी को उचित मुआवजा दिलाने की भरोसा भी दिया है। उन्होंने स्थानीय ग्रामीणों से आग्रह क्या की मिट्टी के लिए अपनी जान ना दें जान है तो जहान है।