प्रोजेक्ट उन्नति के माध्यम से मनरेगा मजदूरों की आय होगी दोगुनी

खूंटी:  केंद्र सरकार ने मनरेगा मजदूरों की आमदनी दुगुनी करने के लिए “प्रोजेक्ट उन्नति” की शुरुवात की है। प्रोजेक्ट उन्नति वैसे मनरेगा मजदूरों के लिए नई योजना है जो मजदूर मनरेगा के तहत सौ दिन का रोजगार पूर्ण कर चुके हैं।

खूंटी जिले में 100 दिन का रोजगार पूर्ण करने वाले महिला पुरुष मनरेगा मजदूरों के लिए आर सेट्टी के माध्यम से दस दिवसीय आवासीय प्रशिक्षण की व्यवस्था की गई है। तोरपा, रनियां और खूँटी के 15 मनरेगा मजदूरों को दस दिवसीय मशरूम प्रशिक्षण दिया जा रहा है। दस दिनों तक चलने वाले मशरूम प्रशिक्षण में मशरूम उगाने की विभिन्न विधियों की जानकारी लिखित और मौखिक दोनों तरीके से दी जा रही है। साथ ही मशरूम उगाने के लिए मजदूरों को प्रैक्टिकल भी कराया जा रहा है। रामगढ़ से आये प्रशिक्षक ने मशरूम उगाने के लिए सभी मजदूरों को एक एक पॉली बैग में किस तरह पुआल कुटी भरना है और कैसे पॉली बैग में मशरूम का बीज लगाना है उसकी बारीकी से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मशरूम प्रशिक्षण के बाद अब मनरेगा मजदूर मशरूम का उत्पादन कर अपनी आय दुगुनी करेंगे और अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत बनाएंगे।

केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना मनरेगा ग्रामीणों के लिए कोरोना काल मे आजीविका का बेहतर साधन बन गया है। मनरेगा मजदूरों के खाते में मजदूरी की रकम आने से ग्रामीणों की माली हालात में भी सुधार आया है। अब मनरेगा मजदूर मशरूम उत्पादन का दास दिवसीय प्रशिक्षण लेकर केंद्र सरकार की “प्रोजेक्ट उन्नति” को धरातल पर उतरेंगे और बैंकों के सहयोग से ऋण लेकर अपनी आमदनी भी दुगुनी करेंगे।