मोदी सरकार ने लॉकडाउन के आड़ में 14 करोड़ युवाओं को किया बेरोजगार: नीरज

रांची: आज रांची स्थित महेंद्र सिंह भवन में इंकलाबी नौजवान सभा के द्वारा संवाददाता सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस सम्मेलन में मुख्य रूप से सभा के राष्ट्रीय महासचिव नीरज कुमार उपस्थित रहे। पत्रकारों को संबोधित करते हुये नीरज ने कहा कि मोदी सरकार हर वर्ष 2 करोड़ युवाओं रोजगार देने की घोषणा के सत्ता में आई थी, उस आंकड़े के मुताबिक इन 7 वर्षों में 14 करोड़ युवाओं को रोजगार देना चाहिए था पर उसके बदले लॉकडाउन के आड़ में 14 करोड़ रोजगार छीन लिया गया। कल ही निर्मला सीतारमण ने घोषणा करते हुए कहा कि बचे हुए भी सार्वजनिक संस्थानों में रेलवे, बैंक हवाई अड्डा एलआईसी पेट्रोलियम सहित रोड प्लॉटफार्म तक को बेचने की पूरी तैयारी कर ली गई है, जिससे 6 लाख करोड़ रुपए की आमदनी होगी। सरकार को जहाँ रोजगार के अवसर को बढ़ाने की दिशा में कार्य करना चाहिए था वहीं हम देखते हैं कि मोदी सरकार सार्वजनिक संस्थानों को बेचकर पूंजीपतियों के हक़ में और गरीब-पिछड़ों से उनकी आरक्षण के अधिकार को छिनने की साजिश कर रही है। उन्होंने कहा कि किसी भी हालत में हम देश के सार्वजनिक संस्थानों को बेचने नहीं देंगे। इसके लिए इंकलाबी नौजवान सभा (RYA) द्वारा पुरे देश में रोजगार अधिकार सम्मेलन, मार्च व कंवेंशन आयोजित किए जा रहे हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि झारखंड में हेमंत सरकार भी 5 लाख प्रति वर्ष रोजगार और सभी रिक्त पड़ी नियुक्तियों को भरने और उसे नियमित करने की घोषणा की थी जिसपर कुछ भी होता नहीं दिख रहा है । राँची में शिक्षक नियुक्ति को लेकर प्रदर्शन कर रहे युवाओं को अपना समर्थन देते हुए उन्होंने हेमंत सरकार से माँग की है कि इनकी मांगों को जल्द से जल्द पूरा किया जाए और सभी रिक्त पड़े नियुक्तियों को भरा जाए। अगामी 30 अगस्त को राँची में RYA द्वारा युवा रोजगार सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है जिसमें सभी वाओं से सम्मेलन में शामिल होने की अपील की गई। इस संवाददाता सम्मेलन में अमल कुमार और नंदीता भट्टाचार्य शामिल हुए।