नावाडीह के प्रवासी मजदूर रामदेव तुरी की गोवा में मौत

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो: बिष्णुगढ,नवाडीह व गोमियां प्रखंड के आस पास क्षेत्रो की एक के बाद एक लगातार हो रही प्रवासी मजदूरों की मौत का शिलशिला नहीं थम रहा हैं।गोवा कमाने गए बोकारो जिले के नावाडीह थाना क्षेत्र के पोटसो गांव निवासी करमा तुरी के 30 वंर्षीय पुत्र रामदेव तुरी की गोवा में करंट लगने से गुरूवार रात इलाज के दौरान मौत हो गई।जानकारी के अनुसार रामदेव तुरी पिक्सेरिस पावर प्राइवेट ट्रांसमिशन कंपनी में कार्यरत था।जहां काम के दौरान 21ऑक्टूबर 2021को 33 हजार के तार में करंट आने से गंभीर रूप घायल हो गया।ईलाज के दौरान 2 नवम्बर को उनका दायां हाथ काट दिया गया और डाॅक्टर ने दूसरे हाथ को भी काटने की सलाह दिया गया।लेकिन शरीर पूरी इंफेक्शन फैलने से ईलाज नही होने से गुरूवार रात उनकी मौत हो गयी।मृतक के दो छोटे-छोटे बच्चे और पत्नी सात माह की गर्भवती हैं।जबकि पिता विकलांग हैं।इस हादसे की खबर लगते ही परिजनों में कोहराम मच गया।परिजनो का रो रोकर बुरा हाल है।विपत्ति के घड़ी में बेबस विकलांग पिता ने अपने बेटे का शव लाने के लिए मदद की गुहार लगाई हैं।वहीं इस घटना को लेकर प्रवासी मजदूरों के हितार्थ में कार्य करने वाले समाजसेवी सिकन्दर अली ने कहा कि झारखंड के नौजवानों की मौत के मुंह में समा जाने की यह पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी कई लोगों की मौत हो चुकी है। सरकार मजदूर हित में कुछ पहल नहीं कर पा रही है और मजदूरों का पलायन तेजी से हो रहा है मुंबई से पैतृक गांव शव लाने के लिए हरसंभव मदद करने का प्रयास किया जा रहा है।