कोरोना की तीसरी लहर को लेकर नक्सली भी सतर्क, जुटा रहे दवा के लिए पैसे !

पलामू से सुधीर कुमार गुप्ता की रिपोर्ट

मेदिनीनगर:कोरोना की थर्ड वेव से बचने के लिए नक्सली भी अब सतर्क हो रहे हैं. नक्सली भी थर्ड वेव से बचने के लिए कई हथकंडे अपना रहे हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नक्सली एक मुहिम चलाकर पैसे जुटा रहे हैं. ताकि कोरोना की थर्ड वेव में संगठन को चलाने के लिए दिक्कत का सामना ना हो इसलिए उस पैसे से दवाइया, खाद्य एवं अन्य सामग्री लेने के लिए जुट गए हैं.कुछ नक्सलियों की माने तो कोरोना की थर्ड वेव से बचने के लिए नक्सली भी कोविड-19 का टीका लेने के लिए जागरूक हो रहे है, लेकिन पुलिस की डर से जंगल से बाहर नहीं आना चाहते है।गौरतलब है कि कोरोना की दूसरी लहर ने पूरे भारत में हाहाकार मचा दिया था. इससे कई लोगों की मौत भी हुई थी. कोरोना की दूसरी लहर ने नक्सलियों की कमर भी तोड़ दी है. जिससे नक्सलियों की हलचल कम हुई है. दरअसल, जंगलों में डेरा डाले नक्सलियों पर भी कोरोना कहर बरपा रहा है. कई नक्सली कोरोना की चपेट में थे. इससे नक्सलियों में भी डर बढ़ गया है. उन्हें भी कोरोना से मौत का खौफ सता रहा है. हालांकि, वे अपने स्तर पर इलाज भी कर रहे थे और ठीक भी हुए.लेकिन अब कोरोना के आने वाले थर्ड वेव से नक्सलियों में पहले से ही खौफ हो गया है. इसलिए नक्सलियों पहले से ही कोरोना का टीका और अन्य सामग्री लेने के लिए जुट गए हैं।इधर पलामू एसपी संजीव कुमार ने अपील करते हुए कहा है कि कोरोना से बचने के लिए सभी को कोविड-19 का टीका लेना जरूरी है. एसपी ने कहा कि पलामू जिले में नक्सलियों के खिलाफ लगातार ऑपरेशन कर रहे है. नक्सलियों का बचना अब मुश्किल है चाहे पुलिस की गोली से हो या किसी भी तरीके से हो. एसपी ने कहा कि नक्सलियों जंगल में रहेंगे और टीका नहीं लेंगे. तो कोरोना का शिकार हो सकते है. इसलिए नक्सलियों बाहर आये. और सरेंडर करें. पुलिस सहयोगात्मक रवैये से पेश आएंगे और जो सरकारी नियम कानून है उनके अंतर्गत उनकी कार्रवाई की जाएगी और उनको मुख्यधारा में जोड़ने की आवश्कता है।