नेताओं के चुनावी रैली से कोरोना नहीं फैलेगा तो त्योहारों से क्यों : संजय यादव

बरही से बिपिन बिहारी पाण्डेय

बरही (हजारीबाग) : बरही मध्य भाग के भावी जिप प्रत्याशी संजय यादव ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से बताया कि आज से ठीक एक साल पहले कोरोना के कारण देश में पहली बार लॉकडाउन लगा था। लोगों को उनके घरों में रहने की हिदायत दी गयी थी। लॉकडाउन लगा तो एक दिन में कोरोना के 87 केस मिले थे।आज एक साल बाद एक दिन में 53 हजार से ज्यादा केस मिल रहे हैं, लेकिन भीड़ पर कोई कंट्रोल नहीं है। उल्टा चुनाव के नाम पर देश के 5 राज्यों में बड़ी बड़ी रैलियां और रोड शो हो रहे हैं। राजनीतिक दलों के बीच भीड़ जुटाने की होड़ लगी हुई है। लेकिन उस पर लगाम लगाने के लिए कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है।केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्य सरकारों को सलाह दी है कि वो त्योहारों के मौके पर अपने यहां भीड़ इकट्ठी न होने दें। लेकिन चुनाव के लिए जुट रही भीड़ पर कोई गाइडलाइन नहीं है। मधुपुर में मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन समेत मंत्री सत्यानंद भोक्ता, आलमगीर आलम, बादल पत्रलेख, विधायक सरफराज अहमद, प्रदीप यादव, दीपिका पांडेय, मथुरा प्रसाद महतो, पूर्व मंत्री सुरेश पासवान, पूर्व सांसद फुरकान अंसारी, जामताड़ा विधायक इरफान अंसारी, राजद के प्रदेश अध्यक्ष अभय सिंह सहित कई नेता एवं बृहद संख्या में आम जन भी चुनावी सभा में शामिल हुए इससे करोना होने का डर बिल्कुल नहीं है।यदि कोई त्यौहार की बात आती है तो सरकार को त्योहारों से करोना का डर सताने लगता है। चाहे होली हो,रामनवमी हो या बच्चों की पढ़ाई हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *