नियमावली संशोधन कमेटी में नव नियुक्त शिक्षकों को शामिल किया जाए : प्रदेश प्रभारी

पाकुड़:  गृह जिला स्थानांतरण को लेकर लगातार चलाए जा रहे आंदोलन के फलस्वरूप झारखंड सरकार द्वारा स्थानांतरण नियमावली में संशोधन कर गृह जिले में भेजने कि दिशा में किए गए सार्थक पहल पर शिक्षकों ने हर्ष व्यक्त करते हुए माननीय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन एवं माननीय शिक्षा मंत्री को धन्यवाद दिया है। इस बाबत गृह जिला स्थानांतरण चाहने वाले शिक्षकों ने बैठक कर हर्ष व्यक्त किया है।
प्रदेश प्रभारी दिलीप कुमार राय ने कहा कि पिछले छह महीने से हम सभी शिक्षकों ने सरकार के मुखिया माननीय हेमंत सोरेन समेत सभी माननीय मंत्रियों एवं विधायक महोदय को ज्ञापन देकर एक बार राज्य हीत में शिक्षकों का गृह जिले में स्थानांतरण का एक मौका देने का निवेदन किया। ज्ञापन देने के कारण क ई माननीय विधायकों ने मार्च में चल रहे विधानसभा सत्र में मामले को सरकार के समक्ष उठाया गया और माननीय संसदीय कार्य मंत्री आलमगीर आलम का जवाब आया कि गृह जिले में स्थानांतरण के लिए सरकार जल्द नियमावली में संशोधन करेगी।
नियमावली में संशोधन की खबर से झारखंड के शिक्षकों में हर्ष का माहौल है। इससे पहले शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने शिक्षक दिवस के मौके पर शिक्षकों को गृह जिले में भेजने के लिए शिक्षा सचिव को भी पत्र लिखे थे। इलाज कराकर वापस लौटते ही इस दिशा में पहल शुरू कर दिया गया है।
श्री राय ने सरकार से निवेदन किया है कि नियमावली संशोधन कमिटी में गृह जिला स्थानांतरण से पीड़ित नव नियुक्त शिक्षकों को भी शामिल किया जाए।
मौके पर कपूर महतो, पोखन महतो, आनंद रवानी, शंभू शरण यादव, छोटीलाल यादव, श्रीनिवास गोप, अविनाश पंडित, चन्द्रकांत यादव, रामाशंकर भगत, कूलदीप महतो समेत अन्य शिक्षकों ने हर्ष व्यक्त करते हुए अविलंब नियमावली में संशोधन करते हुए गृह जिला में भेजने की मांग की है।