ननएनजेसी एस नेताओं ने एनजेसीएस नेताओं को बताया प्रबंधन का पिछलग्गू

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो:  आज जय झारखंड मजदूर समाज  कार्यालय सेक्टर 9 में  महामंत्री बि के चौधरी के  अध्यक्षता में कार्यकारिणी, शाखा कमिटी एवं सक्रिय सदस्यों की आबश्यक बैठक हुई, जिसमें एन जे सी एस के नेताओं का ढोंग एवं  ढुलमुल निति के साथ साथ सेल प्रबंधन के साथ नूरा कुस्ती पर चिन्ता व्यक्त करते हुए सबों ने पुनः चिमनी का धुआं बन्द करने का प्रस्ताव महामंत्री को दिया ।महामंत्री बि के चौधरी ने कहा कि कि बोकारो मे आज तक युनियन का चुनाव नहीं हुआ फिर किस हैसियत से यहाँ से एन जे सी एस में मजदूरों के  आर्थिक भाग्य का तय करने भेजा जा रहा है जिसका जवाब बी एस एल प्रबंधन को सार्वजनिक रूप से देना चाहिए अन्यथा यहाँ से एन जे सी एस में भेजना बन्द करे बी एस एल प्रबंधन ।वेज रिविजन में 59 महीने का बिलम्ब हो चुका है जिससे प्रत्येक मजदूरों को 3 से  4 लाख रुपये का नुकसान हो चूका है बाबजूद दोनों के बीच  एक हुए समझौते के तहत बार बार बैठक होना फिर बिना निर्णय का समाप्त हो जाने के पिछे का मंशा दर्शाता है कि जितना बिलम्ब होगा उतना हीं प्रबंधन को  बचत होगा क्योंकि इन्हीं नेताओं के समझोते के कारण बढ़े हुए भताओं का एरियर नहीं देने का प्रावधान बना हुआ है ।वास्तविकता यह है कि दोनों में समझोता हो चुका है कि कितना एम जी बी, पर्क के साथ साथ 01,01,2017 से एरियर का क्या करना है । एन जे सी एस  का बार बार बैठक होना फिर बिना निर्णय का समाप्त हो जाना सिर्फ मजदूरों को घड़ियालू आंसू देखाना है।अगर इमानदारी से मजदूरों के हक अधिकार और मान सम्मान के प्रति संवेदनशीलता रहता तो मजदूरों के बीच आकर चिमनी का धुआं बन्द करने का प्रस्ताव देता ।इसलिए नन एन जे सी एस ने  निर्णय  लिया है कि 20,09,2017 से सभी विभागाध्यक्ष कार्यालय के सामने  प्रदर्शन के बाद 30,09,2021 को  पलान्ट गोलचक्कर से अधिशासी निदेशक संकार्य कार्यालय पर हल्ला बोल प्रदर्शन के माध्यम से हड़ताल का नोटिस दिया जायगा  जिसके तहत पलान्ट का चक्का जाम के साथ साथ चिमनी का धुआं बन्द कर दिया जायगा ।बैठक में के के मंडल,  आर बी चौधरी ,यू सी कुम्भकार, एस के सिंह, आशिक अंसारी, अनिल कुमार, राजेन्द्र प्रसाद, बादल कोइरी, ओ पी चौहान, सरोज कुमार,  अभिमन्यु माँझी बरिया तेली, धर्मेन्द्र कुमार, उपेन्द्र कुमार, बिनोद कुमार, जानकी ठाकुर,  आर पी मंडल, पूरन चंद महतो उपस्थित थे।