ओड़िया भाषा विकास परिषद ने 90 कवि को किया सम्मानित

हर समाज को अपने भाषा-संस्कृति के विकास को लेकर आगे आना चाहिए : सुखराम उरांव
रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर: चक्रधरपुर शहर कुसूमकुंज मोड़ स्थित उत्कलमणि विद्या मंदिर ओड़िया उच्च विद्यालय के परिसर में ओड़िया भाषा विकास परिषद झारखंड की ओर से कवियों का सम्मान समारोह आयोजित किया गया. जिसमें मुख्य अतिथि विधायक सुखराम उरांव तथा विशिष्ट अतिथि रेलवे अस्पताल के सीएमएस डॉ सुब्रतो कुमार मिश्रा उपस्थित थे. सम्मान समारोह का शुभारंभ विद्यालय परिसर में स्थित पंडित गोपबंधु दास, पंडित गोदावरीश मिश्रा आदि के प्रतिमाओं पर माल्यापर्ण कर किया गया. इस दौरान विधायक श्री उरांव ने कहा कि हर समाज को अपने भाषा-संस्कृति के विकास को लेकर आगे बढ़ना चाहिए. यह देखने को मिल भी रहा है कि हर भाषी के लोग अपने भाषा-संस्कृति को बढ़ाने को लेकर कार्य कर रहे हैं, लेकिन ओड़िया भाषी इसमें पिछड़ता जा रहा है. समाज के विकास के लिए ओड़िया समाज को भी एकजूट होने की जरूरत है. राज्य में कितने ओड़िया समाज के लोग हैं, इसे सरकार को बताना होगा. तभी हमें राजनीतिक लाभ भी मिलेगा. अपने मांगों के लिए हमें सरकार के पास जाना होगा. उसमें मेरा सहयोग रहेगा. वहीं विधायक श्री उरांव ने ओड़िया समाज को एक एंबुलेंस देने की घोषणा किया. विशिष्ट अतिथि डॉ मिश्रा ने कहा कि चक्रधरपुर में भव्य प्रभु जगन्नाथ मंदिर का निर्माण हो, जिसमें सभी का सहयोग आवश्यक है. उस प्रस्ताव को उपस्थित लोगों से स्वागत किया. बता दें कि ओड़िया भाषा विकास परिषद झारखंड के तरफ से कोरोना महामारी के लिए गये लॉकडाउन के दौरान सिंहभूम ओड़िया डिजिटल कविता आसार का आयोजन किया गया था. जिसमें पूर्वी सिंहभूम, पश्चिम सिंहभूम एवं सरायकेला-खरसावां के लगभग 90 ओड़िया कवि भाग लिए थे. जिसमें से पश्चिम सिंहभूम के 39 ओड़िया कवि शामिल हुए थे. कार्यक्रम की अध्यक्षता ओड़िया भाषा विकास परिषद झारखंड के अध्यक्ष डॉ नागेश्वर प्रधान ने किय. कार्यक्रम का समापन दिलीप प्रधान ने धन्यवाद ज्ञापन से किय. मौके पर शिक्षक चिरंजीवी प्रधान, गणपति प्रधान, वैधनाथ प्रधान, संजय प्रधान आदि ओड़िया कवि और लेखक कार्यक्रम में शामिल हुए.
इन कवियों को प्रशस्ति पत्र देकर किया गया सम्मानित
कवियों में केरा गांव के वयोवृद्ध कवि मोतीलाल कर, सत्यप्रकाश कर, गोकुल नापित, संगीता महांती, जयपुर के केदारनाथ प्रधान, चैनपुर के पूर्णेन्दु कुमार नंद, संतोष कुंभकार, दांती के निरोला प्रधान, चेलाबड़ा के अंजलि नायक, पोड़ाहाट के अनीता पृषेठ, सोनुवा के गायत्री प्रधान, बनिता प्रधान, कोलचोकड़ा के कुसुम मंजूरी दास, वृंदावती प्रधान, जोड़ो के निरुपमा प्रधान, पुरानीबस्ती के मृत्युंजय मिश्रा, सुभद्रा मिस्त्री, देवगांव के दीनबंधु कर, डॉ प्रतिभा प्रधान, सोना चांद प्रमाणिक, संगीता प्रधान, जामटूटी के सुजाता प्रधान, रांगरींग के गौरी शंकर प्रधान, पितोवास प्रधान, बाईपीढ़ के तिलोत्तमा दीक्षित, अंबिका चरण दीक्षित, चक्रधरपुर के सुष्मितांजलि दास, वीणापाणि प्रधान, बबीता बेहरा, रंजीता महतो, सानी पदमपुर के रीना राणी गिरी, विद्यावती गिरी, रीमा राणी गिरी, गोपीनाथपुर के रमेश चंद्र प्रधान बामन गुटों के श्रीधर प्रधान, धातकीडीह के बसंत प्रधान आदि कवियों को मुख्य अतिथि चक्रधरपुर विधायक सुखराम उरांव के हाथों प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया.