ओलावृष्टि से रबी फसल व कच्चे मकान हुए क्षतिग्रस्त

चतरा। तीन दिनों में बेमौसम वर्षा के साथ जिला मुख्यालय सहीत प्रतापपुर, सिमरिया व इटखोरी आदि प्रखंडों में हुए ओलावृष्टि से बड़े पैमाने पर रबी फसल को नुकसान हुआ है। सिमरिया अंचल अंतर्गत जिरवाखुर्द पंचायत में असमय वर्षा के साथ हुए ओलावृष्टि से बड़े पैमाने पर गेहूं, चना, राय, सरसो, राहर, टमाटर, प्याज, खीरा आदि फसल नष्ट हो गए। पंचायत के सलगी, लेधा, कुरुमडाडी, बेंती, भूतहा, अलगड़िहा, एरेगड़ा, टूंडाग, गावं में पत्थर का कहर बरपा है। किसान रंजीत सिंह, मित्रजीत साव, बिटू सिंह, सूदन प्रजापति, खुरक प्रजापति, रामचंद्र प्रजापति, कैलाश सिंह समेत सैकड़ों किसानों का फसल का भारी नुकसान हुआ है। किसान मित्र महासंघ के प्रदेश सचिव सुभाष सिंह ने कहा कि पत्थर इतना बडा और तेज था कि कच्चे मकान के खपड़े फुट गए। ओला वृष्टि से किसानो का बुरा हाल हो गया है। ऐसे में जिला प्रशासन किसानों को क्षति पूर्ति राशि का भुगतान करे। इटखोरी प्रखंड क्षेत्र में भी गुरुवार को ओलावृष्टि से रबी फसल बरबाद हुआ है।