ऑनलाइन मेरी बेटी मेरा अभिमान प्रतियोगिता संपन्न 

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो: आज बोकारो स्टील सिटी कॉलेज के मनोविज्ञान विभाग की ओर से ऑनलाइन मेरी बेटी मेरा अभिमान प्रतियोगिता आयोजित करवाई गयी जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में डॉ सतरूपा श्रीवास्तव एवं डॉ पुनम सहाय , मनोविज्ञान विभाग , कोल्हान यूनिवर्सिटी को आमंत्रित की गयी ।
मनोविज्ञान की प्रोफेसर डॉ सतरूपा श्रीवास्तव ने कहा कि बेटी मेरा अभिमान है जो शौर्य , योग्यता , गौरव , आत्म अभिमान से जुड़ी हुई है । आदि शक्ति से ही कन्या पूजन का महत्व । सृष्टि के परस्पर चलायमान होने में महत्वपूर्ण भूमिका , सभी बेटियों को कोटिश नमन ।

मनोविज्ञान की प्रोफेसर डॉ पूनम सहाय ने ऑनलाइन प्रतियोगिता मे उपस्थित सभी विद्यार्थियों को सबोधित करते हुए कहा कि बेटियां ब्रह्मांड की निर्माता व सर्वस्व हैं । मातृ शक्ति के रूप में बेटियां वंदनीय रही है और आत्म गौरव हैं । बेटियां का समाज में जो स्थान व महत्व है उनके प्रति हमें कृतज्ञता प्रकट करनी चाहिए।

आयोजनकर्ता सह विभाग के व्याख्याता डॉ प्रभाकर कुमार ने बतलाया कि यह प्रतियोगिता के माध्यम से बेटियाँ बोझ स्वरूप नहीं बल्कि ईश्वरीय वरदान हैं को परिलक्षित की गयी । जहाँ बेटियों को परस्पर सम्मान , पोषण मिलता है व सभ्य व शिष्ट समाज का निर्माण करती है । अगर बेटा वंश है तो बेटियां अंश हैं , बेटा संस्कार है तो बेटियां संस्कृति है ।

आज के मेरी बेटी मेरा अभिमान प्रतियोगिता में स्वेता कुमारी , कृष्ण कांत तिवारी , गुलाब मोदी , अभिषेक आनंद , रानी कुमारी , किरण मेहता , सुजाता कुमारी , सोनी कुमारी , जीतू कुमार , जया कुमारी , सैमुद्दिन अंसारी , श्रेया कुमारी , वर्तिका कुमारी , प्रिया कुमारी , खुश्बू कुमारी , सीता कुमारी आदि उपस्थित रही । विद्यार्थियों में सेमेस्टर 4 से स्वेता कुमारी , कृष्ण कांत तिवारी सेमेस्टर 6 से अभिषेक आनंद , सेमेस्टर 2 से जया कुमारी , जीतू कुमार , सैमुद्दिन अंसारी , इंटरमीडिएट से श्रेया कुमारी , वर्तिका कुमारी ने मेरी बेटी मेरा अभिमान पर अपने बहुमूल्य वक्तव्य रखे । स्वेता कुमारी , श्रेया कुमारी एवं जया कुमारी उत्कृष्ट वक्तव्य के रूप में अपनी पहचान बनाये ।