चिकित्सक सहित दुर्व्यवहार मामले को लेकर सदर अस्पताल में बन्द रहा ओपीडी सेवा

— मामले पर संज्ञान लेते उपायुक्त ने की चिकित्सकों सहित बैठक

सरायकेला से भाग्य सागर सिंह की रिपोर्ट

सरायकेला। सदर अस्पताल सरायकेला में सोमवार को चिकित्सक व चिकित्सा कर्मियों द्वारा ओपीडी सेवा बन्द कर दी गयी जिसके कारण मरीजों की लंबी कतार अस्पताल में लगने लगी। मिली जानकारी अनुसार विगत तीन सितंबर को सदर अस्पताल में लगे दिव्यांगता जांच शिविर में एक अउपयुक्त दिव्यांग के लिए जबरन दिव्यांगता प्रमाण पत्र निर्गत कराने के मामले यह घटना हुई थी। ईएनटी विशेषज्ञ डॉ प्रदीप कुमार द्वारा अउपयुक्त को दिव्यांगता प्रमाण नहीं दिए जाने पर उनके साथ दुर्व्यवहार करते हुए धमकी भी दी गयी थी। इस सम्बंध थाने में लिखित शिकायत डॉक्टरों द्वारा की गई थी। सदर अस्पताल के अन्य चिकित्सक एवं स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा उक्त मामले में लिप्त आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की गयी है। साथ ही चिकित्सक एवं चिकित्साकर्मियों के सुरक्षा हेतु अस्पताल परिसर पर सुरक्षा कर्मियों की व्यवस्था की मांग रखी गयी है। इनका कहना था कि जब तक आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होती है तब तक अस्पताल में ओपीडी सेवा बंद रहेगी इसी क्रम आज ओपीडी सेवा बन्द कर दी गयी।

ओपीडी सेवा बन्द की जानकारी मिलते ही उपायुक्त अरवा राजकमल चिकित्सकों के साथ परिसदन में बैठक की। बैठक के दौरान चिकित्सक एवं स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा एक ज्ञापन उपायुक्त को सौंपा गया। उपायुक्त द्वारा मामले की निंदा करते हुए आम जनों की चिकित्सीय सहयोग को ध्यान में रखते हुए डॉक्टर्स की टीम को काम पर लौटने का आग्रह किया गया है। उन्होंने आश्वासन देते कहा कि डॉक्टरों के टीम की सुरक्षा के मध्य नजर जिला प्रशासन सक्रिय है। डॉक्टरों के साथ किसी प्रकार की अभद्र व्यवहार या मारपीट जैसी घटनाएं अमानवीय है। अगर ऐसी घटना होती है तो जिला प्रशासन त्वरित संज्ञान लेते हुए कठिन कानूनी कार्रवाई सुनिश्चित करेगी। उपायुक्त द्वारा आमजनों से भी अपील किया गया है कि डॉक्टर से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्या हो तो सिविल सर्जन या उपायुक्त को जानकारी दे। डॉक्टर्स के साथ किसी भी प्रकार की अभद्र या अमानवीय व्यवहार ना करें। अन्यथा जिला प्रशासन इसके विरुद्ध कठोर कानूनी कार्रवाई करेगी।
इस दौरान उपायुक्त ने कोरोना संक्रमण जैसे देशव्यापी महामारी के दौरान डॉक्टरों की कार्य भावना की सराहना करते हुए लोगों से डॉक्टरों के साथ मित्रता एवं सहयोग भाव से मिल अपनी समस्याओं के समाधान करने का अपील किया।