झारखण्ड में समावेशी विकास एवं व्यापक आजीविका को लेकर तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

रांचीः गैर सरकारी संस्था प्रदान रांची के द्वारा तीन दिवसीय कार्यशाला का आयोजन बूटी मोड़ स्थित स्थानीय सभागार में किया गया। दिनांक 29 सितम्बर से 1 अक्टूबर तक चले इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से सिविल सोसाइटी संस्था प्रदान के द्वारा गाँधी जी के विचारों और जीवन के मूल्यों को अपने दैनिक जीवन एवं क्रियाकलापों में अपनाने के साथ साथ साथ ग्रामीण क्षेत्रों को आत्मनिर्भर बनाने एवं ग्राम स्वराज को धरातल पर उतारने की दिशा में मंथन किया गया। इस कार्यशाला में गाँवों में जैविक खेती को प्रोत्साहन, महिलाओं की आत्मनिर्भरता, पोषक-युक्त भोजन तथा पर्यावरण को सुरक्षित रखने हेतु ग्राम सभा की महत्वपूर्ण भागीदारी , ग्रामीण अर्थव्यवस्था, महिलाओं के संगठन एवं उनके सशक्तिकरण पर बल देने की चर्चा हुई।

कार्यक्रम में अतिथि के रुप में उपस्थित प्रख्यात अर्थशास्त्री एवं भूतपूर्व उपकुलपति डॉ. रमेश शरण, नव भारत जाग्रति केंद्र के गिरजा सतीश, प्रभात खबर के संपादक संजय मिश्रा ने गाँधी जी के दर्शन एवं उनके मूल्यों पर प्रकाश डाला। अतिथियों द्वारा गाँधी जी के जीवन के मूल्यों को अपने जीवन में शामिल करने की बात कही गयी तथा उनके द्वारा किये गये छोटे-छोटे बदलाव से समाज में बड़े परिवर्तन को लाने के प्रयोग को विस्तार से बताया | इस विचार के द्वारा ही गाँव में पुनः स्वराज की कल्पना की जा सकती है | कार्यक्रम में बाला देवी , इकरा , कविता बोदरा , अम्मू, बिंजू अब्राहम , सुकान्त कर्मकार, पायल , रमेश आदि सहित गुमला, खूंटी, लोहरदगा एवं रांची के 40 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया l