सेलुलर कंपनी टावर के नए नियमों से संबंधित प्रशिक्षण का किया गया आयोजन

गढ़वा से नित्यानंद दुबे की रिपोर्ट

गढ़वा : बुधवार को उप विकास आयुक्त सत्येंद्र नारायण उपाध्या के अध्यक्षता में संचार मीनारों के प्रतिस्थापन संबंधित ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से मोबाइल कम्पनी से प्राप्त आवेदनों के निस्तारण हेतु बैठक आयोजित की गई। बैठक में पावर पॉइंट के माध्यम से ऑनलाइन इंटीग्रेटेड पोर्टल फॉर मोबाइल टावर को लेकर प्रशिक्षण के साथ इन विषयों पर चर्चा की गई। चर्चा के क्रम बताया गया कि 2015 झारखंड टावर नियमावली के अनुसार जो भी टावर लगाए जाते थे, जिला अंतर्गत अथवा क्षेत्र अंतर्गत उन्हें झारखंड सरकार को एनओसी दिए जाने का प्रावधान था। परंतु 2021 के नियमावली के अनुसार जो भी जिला अंतर्गत अथवा क्षेत्र अंतर्गत मोबाइल टावर लगने हैं, उनका एनओसी जिला प्रशासन के द्वारा प्रदान किया जाएगा। एनओसी देने के लिए डिपार्टमेंट ऑफ आइटी से पोर्टल तैयार किया गया है। जिसके माध्यम से सेलूअर कंपनी एनओसी के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकती है। भिन्न-भिन्न प्रकार के डॉक्यूमेंट सबमिट करना है, इसके उपरांत जिला टेलीकॉम कमिटी को जिला प्रशासन के द्वारा आवेदन को फॉरवर्ड कर उन्हें एनओसी देने का कार्य किया जाएगा। साथ ही कंपनी को जिला स्तर से जांच की प्रक्रिया से गुजरना होगा। जैसे फायर क्लीयरेंस, फॉरेस्ट क्लीयरेंस, टेस्ट सर्टिफिकेट, डीजे एवं अन्य सामग्री जो प्रयोग कर रहे हैं ज्यादा शोरगुल या ज्यादा प्रदूषित तो नहीं है। इसका ध्यान रखने को कहा गया। इसी क्रम में बताया गया कि टावर हाइपरटेंशन वायर से कितने नजदीक अथवा कितने दूर हैं इसका भी सर्टिफिकेट कंपनी के द्वारा दिया जाएगा। तथा इसमें नियमों का किस प्रकार से फॉलो किया गया है अथवा नही। कंपनी को क्षतिपूर्ति से संबंधित पेपर उपलब्ध कराना सुनिश्चित करना होगा ताकि किसी भी प्रकार की समस्या भविष्य में आती है तो पूरी जिम्मेवारी कंपनी की होगीं।
प्रशिक्षण में कंपनी की पॉलिसी के संदर्भ में बताया गया है कि आवेदक को एनओसी जिला टेलीकॉम समिति को 60 दिनों के भीतर निर्गत किया जाना है ।यदि जिला टेलीकॉम समिति 60 दिनों के अंदर एनओसी प्रदान नहीं करती है तो बिना कारण वश स्वतः कंपनी को अप्रूवल प्राप्त होगा।

प्रशिक्षण में बताया गया कि पंचायत समिति में जो ऑनर का एग्रीमेंट है उसका खाता प्लॉट सही है या नहीं फॉरेस्ट एरिया में तो नहीं है इन सब का जांच करते हुए कमेंट के साथ पुनः जिला को फॉरवर्ड करना सुनिश्चित करेंगे तथा इसी के आधार पर जिला के द्वारा उन्हें एनओसी प्रदान किया जाएगा । एनओसी के उपरांत वह अपना आसानी से क्षेत्रों में ऑनर के साथ मिलकर टावर लगा सकेंगे।

 

प्रशिक्षण कार्यक्रम में उप पुलिस उपा धीक्षक गढ़वा, मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी गढ़वा, कार्यपालक अभियंता गढ़वा, कार्यपालक पदाधिकारी नगर पंचायत मंझिआंव एवं अन्य शामिल थे।