हतिया सामुदायिक भवन में दो दिवसीय ग्रामीण जागरूकता श्रमिक प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन

सरायकेला से भाग्य सागर सिंह की रिपोर्ट

सरायकेला।राष्ट्रीय श्रमिक शिक्षा एवं विकास बोर्ड (श्रम एवं रोजगार मंत्रालय, भारत सरकार) क्षेत्रीय निदेशालय -जमशेदपुर की ओर से सरायकेला प्रखंड अन्तगर्त हतिया के सामुदायिक भवन में “द्विदिवसीय ग्रामीण जागरूकता श्रमिक प्रशिक्षण कार्यक्रम” का आयोजन किया गया।
कार्यक्रम का उद्घाटन बोर्ड के वरिष्ठ शिक्षा पदाधिकारी राज किशोर गोप ने किया। उन्होंने केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही सामाजिक सुरक्षा एवं कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देते हुए इसका लाभ उठाने के लिए जागरूक होकर आगे आने को कहा। कहा कि प्रधानमंत्री का डिजिटल इंडिया के सपने को साकार करने के लिए सारा लेन- देन की प्रक्रिया में स्मार्ट फोन तथा ऑन लाइन प्रक्रिया के प्रयोग पर बल दिया जो समय की आवश्यकता है।आने वाला समय इसके बिना मानव जीवन अधूरा हो जाएगा।इसको सफल बनाने के लिए शिक्षा तथा प्रशिक्षण की सख्त आवश्यकता है। बोर्ड इस दिशा में पूरे देश में प्रयासरत है। समाज का ग्रामीण श्रम बल अशिक्षा के भंवर जाल में रहकर इस वैज्ञानिक परिवर्तन का लाभ नहीं उठा सकता है। कोरोना महामारी पर प्रकाश डालते हुए कहा कि कोरोना अभी समाप्त नहीं हुआ है इसलिए लोग लापरवाही नहीं बरतें अन्यथा जान जोखिम में पड़ सकता है।टीकाकरण के प्रति समाज में फैले नकारात्मक विचारों से दूर रहने को कहा एवं दोनों डोज लेकर प्रमाण पत्र लेने का जरूरी सुझाव दिया।
कार्यक्रम का संचालन बोर्ड के कार्यक्रम समन्वयक हेमसागर प्रधान ने किया । उन्होंने आयुष्मान भारत योजना,प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा/जीवन ज्योति बीमा योजना एवं असंगठित श्रमिकों हेतु ई-श्रम कार्ड हेतु निबन्धन प्रक्रिया के बारे में प्रतिभागियों को जरूरी जानकारी दिया।
इस कार्यक्रम में 40 महिला एवं पुरूष श्रमिकों ने भाग लिया।
सभी प्रतिभागियों को बोर्ड की ओर से 2 दिन का भत्ता 500/- उनके बैंक खाते में डी बी टी योजना के तहत प्रदान किया जाएगा।
इस कार्यक्रम को सफल बनाने में ग्राम प्रधान श्रीपति महतो, मुरुप पंचायत की उप मुखिया कुन्ती महतो, शिक्षक सदानन्द सत्पथी, सामाजिक कार्यकर्ता तापस कुमार महतो,रामपद महतो तथा समीर प्रमाणिक आदि का सराहनीय योगदान रहा।.