नकटी में उत्साह पूर्वक मनाया गया ओत गुरू कोल लाको बोदरा का 102वाॅ जयंती

दिशुम गुरु आशीर्वाद योजना से मिला समिति को लाभ
सम्मानित हुए समाज के कलाकार व मुण्डा मानकी
रामगोपाल जेना
बंदगांव/चक्रधरपूर: नकटी पंचायत भवन परिसर में रविवार को आदिवासी हो समाज युवा महासभा एवं बारंग क्षिति लिपि के विद्याथिर्यों ने कोल लाको बोदरा का 102वाॅ जयंती उत्साह पूवर्क मनाया। कायर्क्रम में मुख्य अतिथि विधायक सुखराम उराॅव उपस्थित थे। कायर्क्रम का षुभारंभ दियुरी मांगता हांसदा के नेतृत्व में सामुहिक उपवास रह कर पूजा अचर्ना एवं कोलगुरू लाको बोदरा के तस्वीर पर माल्यापर्ण कर किया। वहीं मुख्य अतिथि सुखराम उराॅव एवं मानकी मुण्डा तथा समाज के कलाकार को समजिक परपंरा के तहत पगडी पहनाकर व गुलदस्ता भेट कर सम्मानित किया गया। मौके पव श्री उराॅव ने कायर्क्रम को संबोधित करते हुए कहा कि कोल गुरू लाको बोदरा हो भाषा वांरागक्षीति लिपी के जनक थे। इन्ही  के कारण आदिवासीयों की भाषा और लिपी है। वतर्मान सरकार भी भाषा को प्राथमिकता दे रही है। उन्होंने कहा कि कायर्क्रम को लेकर समाज के लोंगो ने हमसे मिला था। हमने गुरूजी आषीवार्द योजना के तहत कायर्क्रम को सफल वनाने के लिये हर संभव सामग्री उपलब्ध कराई गई। आगे भी समाजिक कायोर् के लिये गुरूजी आषीवार्द योजना के तहत हर संभव मदद किया जायेगा। इस दौरान उन्होंने कहा कि लोगो की पहचान अपनी भाषा व सांसकृति से होती है। जिसके उपरातं सांस्कृतिक कायर्क्रम का आयोजन किया गया। जिसमें समाज के कलाकारों, छात्र छात्राओं द्वारा सामुहिक नृत्य, एकल गीत, सामुहिक गीत आदी प्रस्तुत किया गया। कायर्क्रम का संचालन बुद्वदेव गागराई व मांगता गागराई ने किया। मौके पर मुख्य रूप से विधायक प्रतिनिधि ष्याम गागराई, मिथुन गागराई, तीरथ जामुदा, बुद्वदेव गागराइ,र् मांगता गागराई, बाहाराम हेम्ब्रम, अनीता कोडा, सुखमती जोंको, सावित्री मेलगांडी, नरेष बानरा, नरसिंह कोडा,  राम बोदरा समेत काफी संख्या में समाज के लोग मौजुद थे।