एफसीआई क्रय केंद्र परिसर में रखा धान बिचड़े में हुआ तब्दील

आक्रोशित अन्नदाता चार जून से करेंगे आमरण अनशन
मयूरहंड(चतरा)। विभागीय पदाधिकारियों के लापरवाही का दंस झेलने को मजबूर मयूरहंड प्रखंड के असहाय किसानों की सुन्ने वाला कोई नही। प्रखंड कार्यालय स्थित धान अधिप्राप्ती केंद्र परिसर में रखा अन्नदाताओं (किसानों) का धान बिचड़े में तब्दील हो गया है। ऐसे में किसानों के समक्ष खुन के आंसू रोने के सिवाय कुछ बचा नहीं। अब पीड़ित किसान चार जून से प्रखंड कार्यालय परिसर में आमरण अनशन पर बैठेंगें। अनशन पर बैठने वाले किसान नवल किशोर सिंह व सुभाष कुमार सिंह ने बताया कि पंद्रह सूत्री मांग पत्र के साथ इसकी लिखित जानकारी उपायुक्त, अनुमंडल पदाधिकारी, जिला खाद्य आपूर्ति पदाधिकारी व बीडीओ सह सीओ को ई-मेल व रजिस्ट्री के माध्यम से दे दिया गया है। किसानों का अरोप है कि पंजीयन कराने के बाद मोबाईल पर एसएमएस प्राप्त हुआ उसके बाद केंद्र धान लेकर पहुंचे, लेकिन गोदाम में जगह नही रहने का हवाला देकर बाहर ही रखने को कहा गया और मजबूरन धान को रख दिया गया। लेकिन परिसर में धान रखे लगभग तीन माह बीत गए पर उठाव विभाग द्वारा नही किया गया। परिणामस्वरुप पिछले कुछ दिनों से बीच-बीच में हो रहे बारिश से बाहर रखे अधिकतर धान बिचड़े में तब्दील हो गए हैं। किसानों ने आरोप लगाया है कि विभागीय आदेशा अनुसार कागजों पर 30 अप्रैल तक धान अधिप्राप्ति केंद्र खुला रहा। परंतु दिसंबर से अप्रैल तक तीस दिन भी नहीं खुला केंद्र। दुसरी ओर क्षेत्र के जिम्मेवार प्रतिनिधियों व अधिकारियों के प्रति किसानों में आक्रोेष व्याप्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *