गांव में बाल उत्पीड़त के प्रति बढ़ती घटनाएं के प्रति अभिभावकों को अधिकार के प्रति किया जा रहा जागरूक: प्रभाकर

बोकारो: आज जरीडीह प्रखंड के गायछनंदा पंचायत के बरवाडीह टोला एवं गागजोरि पंचायत के वीरसाड़म गांव , चिरापाटि टोला के सामुदायिक भवन में बाल अधिकार सरंक्षण जागरूकता अभियान के कार्यक्रम निदेशक सह मनोवैज्ञानिक के अगुवाई में युवाओं की सहभागिता से की गयी ।
मनोवैज्ञानिक डॉ प्रभाकर कुमार ने बतलाया कि गांव में बढ़ती बाल उत्पीड़न की घटनाएं के कारण बच्चों , माता पिता अभिभावकों समुदाय समाज ग्रामीणों को बाल अधिकारों के प्रति संवेदनशील बनाया जा रहा रहा है । गांव में लिंग भेद , भूर्ण हत्या , बाल श्रम , बाल विवाह , बाल दुर्व्यापार , बाल उत्पीड़न की घटनाएं मे अप्रत्याशित वृद्धि जारी है । संकट कालीन नो 1098 को याद करवाया गया और कई बाल संकल्पों को दुहराया गया । सुरक्षित बचपन सुरक्षित भारत के संकल्प को मूर्त रूप दे सकती है ।
गायचछनंदा पंचायत के मुखिया सोनी कुमारी ने कहा कि बाल अधिकार जागरूकता अभियान चलाए जाने से बच्चे के तमाम जानकारी मिली है , अपने ग्राम पंचायत को संवेदनशील बनाये जाने में मेरी ओर से अहम भूमिका रहेगी ।
गांगजोरी पंचायत के मुखिया गीता देवी ने बढ़ती यौन उत्पीड़न की घटनाएं पर चिंता व्यक्त करते हुए बाल अधिकारों की जानकारी जन मानस तक पहुँचाने को सफल अभियान बतलाया ।
आज के बाल अधिकार सरंक्षण जागरूकता अभियान मे मास्क , चॉकलेट , प्रतियोगिता करवा कर स्टेशनरी सामग्रियों का वितरण किया गया । अभियान में मुख्य रूप से शामिल समाजसेवी सदानंद चटर्जी , फुलेश्वर मरांडी , आकाश दास , जलेश्वर मरांडी , नंदकिशोर मुर्मू , करम चांद मरांडी , नामेश्वर मरांडी , युवाओं में कृष्ण कांत तिवारी , रिषभ कुमार , इंद्रजीत कुमार आदि उपस्थित रहे ।