प्रवासी मजदूरों को ले डीसी एवं एसपी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दिया निर्देश

गोड्डा: मंगलवार को उपायुक्त किरण पासी एवं पुलिस अधीक्षक वाइएस रमेश की संयुक्त अध्यक्षता में अनुमंडल पदाधिकारी, गोड्डा,महागामा तथा जिले के सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचल अधिकारी तथा सभी थाना प्रभारी के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड-19 के संभावित प्रसार के बचाव एवं रोकथाम के लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए। उपायुक्त के द्वारा बताया गया कि सचिव, परिवहन विभाग, झारखंड सरकार द्वारा सूचित किया गया है कि दिनांक 24 मई से 28 मई 2020 तक झारखंड राज्य में काफी संख्या में श्रमिक ट्रेन आने वाली है। जिसमें अत्यधिक संख्या में प्रवासी मजदूरों का गोड्डा जिला आगमन की संभावना है। संभावित जिलों से प्राप्त सूचना के अनुसार प्रवासी मजदूरों को लाने हेतु बसों एवं दंडाधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की जा रही है। गोड्डा कॉलेज गोड्डा तथा तिलकामांझी कृषि महाविद्यालय गोड्डा से प्रवासी मजदूरों को संबंधित प्रखंड भेजने हेतु काफी संख्या में वाहनों की आवश्यकता है।‌ अनुमंडल पदाधिकारी गोड्डा एवं महगामा सभी प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत पड़ने वाले निजी विद्यालयों के संचालकों से समन्वय स्थापित करते हुए प्रत्येक प्रखंड के लिए दो दो बसों का अधिग्रहण कर सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी को उपलब्ध कराएंगे। सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी उक्त बसों का लॉग बुक संधारण करते हुए गोड्डा कॉलेज गोड्डा तथा तिलकामांझी कृषि महाविद्यालय गोड्डा से प्रवासी मजदूरों को अपने प्रखंड गंतव्य स्थान तक पहुंचाने हेतु आवश्यक कार्यवाही करेंगे। प्रवासी मजदूरों के गोड्डा आगमन पर जोन वार गोड्डा कॉलेज गोड्डा तथा तिलकामांझी कृषि महाविद्यालय गोड्डा मैदान में स्क्रीनिंग कराते हुए संबंधित प्रखंड के गवर्नमेंट क्वॉरेंटाइन सेंटर तथा होम क्वॉरेंटाइन सेंटर में भेजना सुनिश्चित करेंगे।

उपायुक्त ने बताया कि सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी आ रहे प्रवासी मजदूरों को पंचायत वार डाटा तैयार करेंगे। विभिन्न प्रखंडों में प्रवासी मजदूरों को विभिन्न राज्यों एवं जिले से लाया जा रहा है । साथ ही उन्हें होम क्वॉरेंटाइन एवं जिला क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखा जा रहा है। वर्तमान समय में प्रवासी मजदूरों के लिए रोजगार की एक विकट समस्या उत्पन्न हो गई है । इसे ध्यान में रखते हुए उपायुक्त के द्वारा निर्देश दिए गए कि प्रत्येक प्रखंडों में प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी के द्वारा रोजगार उन्मुखी योजना का सृजन किया जाए ताकि अधिक से अधिक लोगों को रोजगार दिया जा सके। मनरेगा जैसे योजना मे योग्यता के अनुरूप कार्यों का चयन कर उन्हें रोजगार प्रदान किए जाएं।
उप विकास आयुक्त के द्वारा बताया गया कि जिले में मनरेगा योजना के अंतर्गत 200 दिनों तक के लिए रोजगार का निर्माण कर लोगों को रोजगार प्रदान किए जाएंगे , ताकि अधिक से अधिक प्रवासी मजदूरों को रोजगार मिल सके ।साथ ही साथ सरकार के द्वारा चलाएं जा रहे अन्य योजनाओं को भी जल्द से जल्द विभिन्न प्रखंडों में चालू किए जाएंगे।

पुलिस अधीक्षक वाइ एस रमेश द्वारा कहा गया कि विधि व्यवस्था संधारण करते हुए प्रत्येक थाना में चेक पोस्ट के जरिए सघन जांच कराई जाए।

इस मौके पर उप विकास आयुक्त सुनील कुमार एवं प्रशिक्षु आईएएस ऋतुराज मौजूद थे।