गणेश प्रतिमा के माध्यम से चिकित्सक ने सुझाए मधुमेह से बचाव के उपाय

रामगोपाल जेना
चक्रधरपुर: गणेश चतुर्थी पर एक चिकित्सक ने अपने क्लिनिक में प्रतिमा स्थापित कर मधुमेह से बचने के तरीके सुझाए हैं. उक्त प्रतिमा की काफी चर्चा हो रही है.
सिविल टाऊनशिप अंचल के एच-17 स्वीट लाइफ डायबिटिक केयर में एक पखवाड़ा तक गणेश पूजा का त्यौहार हर्षोल्लास पूर्वक मनाया जा रहा है. इस अवसर पर डॉ अंशुमन नायक स्वयं उस्थित रहकर विधि पूर्वक भगवान गणेश की प्रतिमा को स्थापित कर पूजा अर्चना किये. पंडित जितेन्द्र आचार्य के मंत्रोच्चारण से परिसर गुंज रहा है. पंडित जितेन्द्र आचार्य ने विधिवत पूजा पाठ कराने के साथ ही हवन व पुष्पांजलि के पश्चात हर दिन पूजा संपन्न करा रहे हैं. पूजा के पश्चात हर दिन उपस्थित लोगों को प्रसाद का वितरण किया जा रहा है. डॉ अंशुम नायक ने गणेश पूजा के अवसर पर मधुमेह के मरीजों को बचाव का संदेश देने का प्रयास किया है. भगवान गणेश की प्रतिमा के आठ हाथों में अलग अलग संदेश की तख्ती लगाई गई है.
डॉ नायक ने कहा कि मनुष्य को मधुमेह बीमारी से स्वस्थ रहने के लिए कुछ कदम उठाना होगा. गणेश प्रतिमा के हाथों में इसी का संदेश का बोर्ड लगाया गया है. मधूमेह के हर मरीज को प्रत्येक तीन महीने में एचपीए 1सी की जांच कराना है, जो 7 प्रतिशत तक ही रहना चाहिए. इसी प्रकार बीपी 130-80 के बीच, कोलेस्ट्रोल एलडीए 80 रहना चाहिए. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि स्वस्थ रहने के लिए हमें जंक फूड से बचना होगा. साथ ही प्रत्येक दिन दस हजार कदम चलना होगा. रात्रि के समय हमें आठ घंटे सोना होगा. इसके साथ तनाव से हमें हर दिन मुक्त रहना होगा. यदि मधुमेह के मरीज उक्त सभी कदमों को अपने जीवन में आत्मसात कर लें तो हम शूगर, ब्लड प्रेशर, हार्ट एवं किडनी समेत अन्य प्रकार के रोगों से बच सकते हैं. डॉ नायक ने शहरवासियों से कहा है कि स्वस्थ रहने के लिए उपयुक्त कदम उठाना जरूरी है.
प्रतीमा और पांच दिनों तक ही स्वीट लाइफ डायबिटिक केयर में दर्शन के लिए रहेगा. उसके बाद विसर्जित कर दिया जायेगा.