पुश्तैनी जमीन पर जबरन कब्जा के खिलाफ लगा रहे गुहार

– मामला बसंतराय प्रखंड के सुरनिया गांव का
गोड्डा: बसंतराय प्रखंड के सुरनिया गांव में असामाजिक तत्वों द्वारा जमाबंदी रैयत बैकुंठ सिंह की पैतृक जमीन को जबरन हड़पने का प्रयास किया जा रहा है। उनकी जमीन को जोर जबरदस्ती से गांव के कुछ मनबढ़ू लोगों घेरने की कोशिश के कारण गांव में तनाव बना हुआ है। पीड़ित पक्ष द्वारा इसके खिलाफ बसंतराय के अंचल अधिकारी से लेकर पथरगामा थाना के पुलिस पदाधिकारियों से गुहार लगाई जा रही है। लेकिन प्रशासन के ढुलमुल रवैया के कारण असामाजिक तत्वों का मनोबल कम होने का नाम नहीं ले रहा है।
मिली जानकारी के अनुसार, सुरनिया गांव के विमल सिंह और उनके तीन बेटों अबलेन्दु, मनीष एवं राहुल मिलकर जबरन जमाबंदी रैयत बैकुंठ प्रसाद सिंह की पुश्तैनी जमीन पर दीवाल बनाने का काम कर रहे हैं। इसके विरुद्ध श्री सिंह ने बसंतराय के अंचलाधिकारी एवं पथरगामा थाना से न्याय की गुहार लगाई है। उन्होंने जमाबंदी नंबर 17 दाग नंबर 29 की जमीन के लिए पहले से ही सीमांकन के लिए आवेदन दिया था। परंतु पिछले वर्ष लगे लॉकडाउन के कारण अधिकारियों ने कहा था कि बाद में सीमांकन हो जाएगा। ऐसा आश्वासन देकर अधिकारी टालते गए, जिसका लाभ असामाजिक तत्वों के द्वारा उठाया जा रहा है। बैकुंठ प्रसाद सिंह ने बताया कि 12 जून 2021 को दीवार देने के काम का वीडियो बनाने के क्रम में उनके घर पर ईट पत्थर बरसाया गया और देसी कट्टा दिखाकर जान से मारने की धमकी दी गई। इसीलिए थाने में जाकर एक आवेदन भी दिया है। थानेदार ने तत्काल प्रभाव दिखाते हुए धारा 107 लगा दिया है। बावजूद इसके, असामाजिक तत्वों का मनोबल बढ़ता जा रहा है।