महेशपुर थाना क्षेत्र के एक तालाब में मिले शव के मामले का पुलिस ने किया खुलासा, एक को लिया हिरासत में

पाकुड़ से मुकेश जायसवाल की रिपोर्ट
पाकुड़ः  जिला के महेशपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत सोनारपाड़ा स्थित एक तालाब में विगत 12 मई 2021 को एक शव पुलिस ने बरामद किया था वही शव की पहचान पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिला के मूरारोई थाना अंतर्गत मियांपुर के रहने वाले सफीकुल शेख के रूप में किया गया था। तलाब में मिले शव के मामले का उद्भेदन पुलिस के द्वारा किया गया और हत्या में शामिल एक आरोपी को भी गिरफ्तार किया गया है वही मामले के उद्भेदन को लेकर एसपी मणिलाल मंडल ने अपने कार्यालय में प्रेस वार्ता आयोजित करते हुए अहम जानकारी दी। एसपी मणिलाल मंडल ने उक्त मामले को लेकर विस्तार पूर्वक जानकारी देते हुए बताया कि तलाब से मिले शव जानकारी होते ही इस मामले के उद्भेदन को लेकर मेरे द्वारा एसडीपीओ महेशपुर नवनीत एंथोनी हेंब्रम के नेतृत्व में एक पुलिस बल का गठन किया गया उक्त टीम में महेशपुर पुलिस निरीक्षक उमाशंकर ,महेशपुर थाना प्रभारी रत्नेश कुमार मिश्रा, पुलिस अवर निरीक्षक सह अनुसंधानकर्ता टिंकू रजक, शुभम कुमार सिंह, अमर कुमार मिंज, ब्रजकिशोर सिंह समेत कुछ पुलिस बल के जवान शामिल थे। मेरे द्वारा गठित पुलिस टीम ने अनुसंधान करते हुए सबसे पहले शव की पहचान किया और इसके बाद कड़ी दर कड़ी सारे तथ्यों का पता लगाते हुए हत्या में शामिल महेशपुर थाना अंतर्गत सोनारपाड़ा के भूरु माल को गिरफ्तार किया। गिरफ्तार किए गए भूरू माल से जब पूछताछ किया गया तो उसने पुलिस को बताया कि मृतक सफीकुल सुद ब्याज का काम करता था और उससे मैंने ब्याज पर 90 हजार रुपये कर्ज लिया था और उस पैसे से जुआ खेल लिया और जुआ में सभी पैसा मैं हार गया था सफीकुल शेख पैसे की मांग कर रहा था इससे मैं तनाव में आ गया था एक दिन मैंने सफीकुल शेख को फोन कर सोनारपाड़ा में एक लड़की सेट करने की बात कह कर उसे तालाब के किनारे बुलाया और सेक्स पावर बढ़ाने का दवा बोलकर नशीला दवा खिला दिया जब सफीकुल शेख नशा में आ गया तब तेज धारदार चाकू से मैंने उसका गर्दन को रेतकर हत्या कर दिया साथ ही उसके पॉकेट में रखे 9 हजार रुपए व मोबाइल लेकर फरार हो गया। एसपी मणिलाल मंडल ने बताया कि पकड़े गए आरोपी के निशानदेही पर घटनास्थल पर फेंके गए सेक्स पावर बढ़ाने वाला दवा , एक मोबाइल 3 बस का टिकट को बरामद किया गया है। एसपी ने कहा कि मेरे द्वारा गठित पुलिस टीम ने अपनी सूझबूझ से मामले का उद्भेदन किया है।