प्रमुख उपप्रमुख एवं अन्य ने बीडीओ के खिलाफ धरणा प्रदर्शन किया

जामताड़ा से राजकिशोर सिंह की रिपोर्ट

जामताड़ा : सदर प्रखंड के प्रखंड विकास पदाधिकारी अमृता प्रियंका एकका के खिलाफ प्रखंड प्रमुख पार्वती सोरेन उप प्रमुख असीत मंडल समेत अन्य जनप्रतिनिधियों का आक्रोश अब चरम पर है। एक सप्ताह पूर्व प्रखंड के जनप्रतिनिधियों द्वारा एक मांग पत्र उपायुक्त को सौंपा था जिसमें मांग किया गया था कि अविलंब प्रखंड विकास पदाधिकारी का स्थानांतरण किया जाए अन्यथा ब्लॉक में तालाबंदी कर कामकाज ठप कर दिया जाएगा। इस पर उपायुक्त ने आश्वासन दिया था कि आप लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाया जाएगा । एक सप्ताह का समय जनप्रतिनिधियों को दिया गया था। एक सप्ताह बीत जाने के बाद भी जनप्रतिनिधियों की मांग पूरा नहीं हुआ और आखिरकार जनप्रतिनिधि प्रखंड कार्यालय पहुंचकर तालाबंदी कर विरोध प्रदर्शन किया प्रखंड विकास पदाधिकारी पर आरोप लगाया कि जनप्रतिनिधियों से अभद्र व्यवहार करने मनमाना रवैया अपनाने योजनाओं में मनमानी करने विकास योजनाओं के प्रति दिलचस्पी नहीं दिखाने अपने अधीनस्थ कर्मचारियों पर रौब दिखाने और पंचायत प्रतिनिधियों के साथ अभद्र व्यवहार करने के विरोध में बुधवार को सदर प्रखंड परिसर मैं प्रमुख पार्वती सोरेन एवं उप प्रमुख असीत मंडल के नेतृत्व में जनप्रतिनिधियों ने विरोध प्रदर्शन करते हुए वीडियो कार्यालय का ताला बंदी कर वीडियो के खिलाफ मुर्दाबाद वीडियो की तानाशाही नहीं चलेगी भ्रष्ट वीडियो को यहां से हटाओ सहित अन्य कई नारेबाजी की। वीडियो की कार्यशैली से जनप्रतिनिधि एवं ब्लॉक के कर्मचारियों में काफी रोष है। ब्लॉक के कई कर्मचारियों का वेतन वर्षों से नहीं दिया गया है जिससे कर्मचारियों की स्थिति काफी दयनीय हो गई है। जनप्रतिनिधियों ने आरोप लगाते हुए कहा कि पंचायत समिति की बैठक में पारित प्रस्ताव का अनुपालन वीडियो द्वारा नहीं की जाती है और ना ही खुद अनुपालन करती है और ना प्रखंड कर्मियों को दिशा निर्देश देती है सभी लोगों के साथ तानाशाही व्यवहार करती है यहां तक की जनप्रतिनिधियों के साथ अभद्र व्यवहार करती है जनप्रतिनिधियों के पहुंचने के बाद शिष्टाचार नहीं दिखाती है हमेशा रॉब दिखाती है यहां तक की आम जनता किसी काम से कार्यालय पहुंचती है तो अ शब्द कहते हुए बाहर कर देती है उप प्रमुख अजीत मंडल ने कहा कि जामताड़ा में वीडियो जब से आई है नियम कानून को ताक पर रखकर अपना मनमौजी करते हैं मनमाने ढंग से चलाने का कोशिश करते हैं विगत 3 साल इनका होने जा रही है पंचायत समिति की जितनी भी बैठक हुई है एक भी बैठक को इन्होंने जिला को बैठक का मेमोरेंडम नहीं भेजा है हमारे यहां फंड उपलब्ध है उसके लिए हम लोगों ने एनुअल प्लान बनाए लेकिन आज तक उन्होंने रजिस्टर में लिपिबद्ध भी नहीं किया और आगे की कार्रवाई के लिए कुछ भी नहीं किया व्यवहार इनका जनप्रतिनिधियों के साथ बहुत ही असंतोषजनक है। साथ साथ आम पब्लिक को भी उन्होंने धमका के भगा देती है इनकी मनमौजी और तानाशाही यही रवैया रहा है। जल्द से जल्द यहां से इस भ्रस्ट वीडियो को भगाया जाए। उन्होंने कहा कि प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी सुखदेव टोप्पो का वेतन के लिए डीसी ने दो तीन बार वेतन का भुगतान करने का निर्देश भी दिया लेकिन उनका वेतन नहीं दिया इसलिए प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी ने मजबूरन हाई कोर्ट किया। जिसका नोटिस मिल चुका है वही प्रखंड पशुपालन पदाधिकारी डॉक्टर प्रेमचंद्र साव का भी वर्षों से वेतन रोक कर रखा है। उन्होंने हाई कोर्ट क्या है जिसका नोटिस वीडियो को नोटिस मिल चुका है। वीडियो ने अगले वर्ष 3 महीना छुट्टी में था और छुट्टी का भी इन्होंने अपना वेतन का निकासी कर लिया है। जबकि ऐसा रूल नहीं है। पुराने डीसी साहब को इन्होंने धमकी भी दिया था कि हम महिला आदिवासी हैं आप के विरोध में हाईकोर्ट कर देंगे जिस कारण डीसी डर चुके थे जिस कारण इनके विरुद्ध कोई कार्रवाई नहीं की गई थी। लेकिन वर्तमान में आइएस नये डीसी आए हैं इन्होंने आश्वासन दिया है कि अगर अपने कार्यशैली में सुधार नहीं लाती है तो इनके खिलाफ बर्खास्तगी का सरकार को लिखा जाएगा। वही प्रखंड पशुपालन पदाधिकारी ने वीडियो पर गंभीर आरोप लगाए हैं उन्होंने कहा है कि जो भी पदाधिकारी कर्मचारी इनको पैसा देती है उनका काम ठीक से करती है बाकी किसी का काम नहीं करती है पूर्व में हो रहे सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में मुझसे वीडियो नहीं कार्यक्रम को सफल करने के लिए ₹10000 की मांग की थी जो मैं नहीं दे पाया उसके बाद से मेरे वेतन में कटौती करती रही है इसके लिए मैंने हाई कोर्ट भी किया है। इस मौके पर पंचायत समिति के सदस्य माला गोराई छोटेलाल कृष्णा मुर्मू रितु चौड़े रंजीत कुमार मंडल सोहराब अंसारी रीना मुर्मू किरण मरांडी अमिता टू डू पद्मावती मरांडी अलता देवी तबस्सुम परवीन जमुना देवी समेत अन्य उपस्थित थे।