रेलवे के निजीकरण से यात्री भाड़े में होगी 3 गुना वृद्धि : संजय ओझा

पाकुड़ : ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन के आह्वान पर ईस्टर्न रेलवे मेंस यूनियन पाकुड़ शाखा द्वारा प्लेटफार्म नंबर एक पर आम यात्रियों के बीच रेल कर्मियों सहित केंद्र सरकार की राष्ट्रीय संपत्ति के मुद्रीकरण की नीति के विरुद्ध प्रदर्शन किया गया । मौके पर शाखा सचिव संजय ओझा ने संबोधित करते हुए बताया कि केंद्र सरकार की इस नीति से राष्ट्र के अधिकतम संसाधन पर निजी कंपनियों का अधिकार हो जाएगा और वह इसका अधिकतम दोहन कर जर्जर अवस्था में छोड़कर चले जाएंगेस साथ ही शिक्षित बेरोजगार युवकों के लिए रोजगार के अवसर और भी कम हो जाएंगेस जिन युवकों को रोजगार मिलेगा वह मानसिक, शारीरिक एवं आर्थिक शोषण के शिकार होंगे।उन्होने आम यात्रियों को जागरूक रहने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि अगर सरकार की गलत नीतियों का सही समय पर विरोध नहीं किया गया तो सरकार और भी निरंकुश होती चली जाएगी।निजी कंपनियों को दोहरा लाभ पहुंचा रही है केंद्र सरकार की नीति का ईस्टर्न रेलवे मेंस यूनियन जोरदार विरोध करती है।मौके पर शाखा के कार्यकारी अध्यक्ष मोहम्मद कलीम अंसारी, सह सचिव विक्टर गेम्स, निलेश प्रकाश, संगठन सचिव अमर कुमार मल्होत्रा, केंद्रीय सभा सभासद संजीव कुमार, कुंदन कुमार सिंह, अशोक कुमार दीपक प्रमाणिक, पिंटू लाल पटेल, अमलेश रंजन सहित कई रेल कर्मी मौजूद थे।