विश्व आदिवासी दिवस पर समाहरणालय सभागार में हुआ कार्यक्रम का आयोजन

■ विश्व आदिवासी दिवस पर आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम का किया गया सीधा प्रसारण

■ 2139 लाभुकों के बीच कुल 9.5493322 करोड़ रुपये की परिसंपत्तियों का किया गया वितरण।

रामगढ़ से वली उल्लाह की रिपोर्ट
रामगढ़: विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर सोमवार को समाहरणालय के सभागार में किसान क्रेडिट कार्ड एवं मुख्यमंत्री पशुधन योजना अंतर्गत पशुधन वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें प्रोजेक्ट भवन रांची में आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम का सीधा प्रसारण समाहरणालय सभागार में किया गया।

विधायक रामगढ़ विधानसभा ममता देवी, उपायुक्त माधवी मिश्रा, संयुक्त निदेशक कृषि हजारीबाग बृजेश्वर दुबे, उप विकास आयुक्त नागेंद्र कुमार सिन्हा द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की गई। विधायक ममता देवी ने कहा कि विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर राज्य के सभी जिलों में किसान क्रेडिट कार्ड एवं मुख्यमंत्री पशुधन योजना अंतर्गत पशुधन वितरण कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। इस तरह के कार्यक्रमों के आयोजन से किसानों एवं अन्य लोगों को सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी होती है। उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद सभी किसानों, स्वयं सहायता समूह की दीदियों आदि से अपने-अपने क्षेत्र में रह रहे अन्य किसानों एवं जरूरतमंद लोगों को भी सरकार की योजनाओं के प्रति जागरूक करते हुए उन्हें लाभ दिलाने की अपील की।

उपायुक्त माधवी मिश्रा ने कहा कि सरकार द्वारा चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं का लाभ सभी योग्य एवं जरूरतमंद लोगों तक पहुंचे इसका प्रयास जिला प्रशासन द्वारा निरंतर रूप से किया जा रहा है। उन्होंने किसान क्रेडिट कार्ड योजना पर जानकारी देते हुए कहा कि सरकार की इस महत्वकांक्षी योजना ने ना केवल खेती से जुड़े किसानों बल्कि गव्य विकास, मत्स्य पालन सहित अन्य कृषि कार्यों से जुड़े लोगों को लाभ दिया है। जिला प्रशासन द्वारा सभी प्रखंडों में विशेष अभियान चलाकर केसीसी फॉर्म जमा किए गए जिसके उपरांत बैंकों के साथ समन्वय कर जल्द से जल्द लोगों को ऋण उपलब्ध कराने हेतु कार्रवाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि केसीसी के माध्यम से लोगों को केवल 1% ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराया जा रहा है जिसके बाद अब उन्हें बिचौलियों, महाजनों या किसी से भी ऊचें ब्याज दर पर ऋण लेने की जरूरत नहीं है।

संयुक्त कृषि निदेशक हजारीबाग ब्रजेश्वर दुबे ने केसीसी के फायदों के संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि राज्य सरकार द्वारा किसानों को युद्ध स्तर पर अभियान चलाकर केसीसी उपलब्ध कराने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार का यह प्रयास है कि किसानों को सही समय पर कम ब्याज दर पर ऋण उपलब्ध कराया जाए ताकि वे उसका लाभ लेकर अपनी आय को बढ़ा सकें।*

कार्यक्रम में कुल 2139 लाभुकों के बीच 9 करोड़ 54 लाख 93 हजार 322 रुपये की राशि की कुल परिसंपत्तियों का वितरण किया गया ।जिनमें पीएम किसान के 1412 लाभुकों के बीच 3.54 करोड़, गव्य विकास अंतर्गत मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना के 292 लाभुकों के बीच 1.18 करोड़, वर्मी कंपोस्ट यूनिट के 45 लाभुकों के बीच कुल 5.62500 लाख, डीप बोरिंग के 25 लाभुकों के बीच कुल 12 लाख 50 हजार, केसीसी के 127 लाभुकों के बीच 82 लाख, पशुपालन अंतर्गत मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना के तहत बत्तख चूजा वितरण के 80 लाभुकों के बीच 1.20 लाख, मत्स्य अंतर्गत केसीसी के 97 लाभुकों के बीच 56 लाख, भूमि संरक्षण अंतर्गत मिनी ट्रैक्टर के 1 लाभुक के बीच कुल पांच लाख एवं जेएसएलपीएस अंतर्गत स्वयं सहायता समूह की कुल 160 दीदियों के बीच 3.20 करोड़ की राशि के परिसंपत्तियों का वितरण किया गया।
इस अवसर पर जिला मत्स्य विकास पदाधिकारी मनोज कुमार ठाकुर परियोजना निदेशक आत्मा प्रवीण कुमार सिंह सहित जिले के अधिकारी कर्मचारी व किसान मुख्य रूप से उपस्थित थे।