डिजिटल लेब्रोटरी के लिए सरकार को भेजें प्रस्ताव

-एसकेएम यूनिवर्सिटी की कुलपति ने प्राचार्य को दिया निर्देश

गोड्डा: सिदो कानू मुर्मू विश्वविद्यालय, दुमका की कुलपति डॉ सोना झरिया मिंज एवं विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार ने बुधवार को विश्वविद्यालय के सभी सरकारी कॉलेजों के प्राचार्यों के साथ ऑनलाइन बैठक की। बैठक में ऑनलाइन क्लासेस एवं टेक्नोलॉजी बेस्ड इक्विपमेंट्स की आवश्यकता पर विचार विमर्श किया गया।
विश्वविद्यालय की कुलपति डॉ सोना झरिया मिंज ने कहा कि हर एक सरकारी कॉलेज के प्राचार्य सरकार से डिजिटल लेबोरेट्री के लिए प्रस्ताव भेजें।उन्होंने कहा कि कोरोना के इस पीरियड में ऑनलाइन क्लासेज तो हो रहा है, लेकिन साइंस के प्रैक्टिकल नहीं हो पा रहे हैं।प्राचार्य एवं प्राध्यापकों को प्लान बनाना चाहिए कि किस तरह ऑनलाइन प्रैक्टिकल्स करवाया जा सकता है।छात्र प्रैक्टिकल्स के बारे में भी जानें, इसके लिए यूट्यूब से भी सहायता ली जा सकती है।
कुलपति ने प्राचार्य को स्मार्ट क्लास और स्मार्ट स्टूडियो के लिए जल्द प्रपोजल देने को कहा। प्राचार्य को सुझाव दिया गया कि जो छात्र ऑनलाइन क्लासेज में नहीं जुड़ पा रहे हैं, उनके लिए कुछ बैकअप प्लान बनाया जाए। कॉन्ट्रैक्ट पर कार्य कर रहे टीचर्स को भी एक्सटेंशन देने के निर्देश दिए गए।
सिद्धू कानू मुर्मू विश्वविद्यालय में नए विषयों की पढ़ाई के प्रस्ताव भी मांगे गए हैं।इस वर्ष विश्वविद्यालय में एथनोबॉटनी में बैचलर की पढ़ाई शुरू होगी। प्राचार्य के साथ बैठक में यह तय किया गया कि छात्रों की एम्पलाईबिलिटी ज्यादा बढे, उनकी पढ़ाई का इंडस्ट्री से ज्यादा तालमेल बैठे, इस पर ध्यान देना चाहिए। इससे छात्रों को नौकरी मिलने सहायता मिलगी और सेल्फ एंप्लॉयमेंट भी बढ़ेगा।
गोड्डा कॉलेज के प्राचार्य प्रोफेसर सतीश पाठक ने बताया कि विश्वविद्यालय के कुलपति के निर्देश के आलोक में गोड्डा कॉलेज गोड्डा विद्यार्थियों के लिए ऐसे कोर्सेज खोलने का प्रस्ताव बना रहा है जिससे आसपास के उद्योग जुड़े हुए हों। गोड्डा में ईसीएल के कोयला खदान हैं।
साथ ही यहां अदानी पावर प्लांट भी अगले साल शुरू होने वाला है। इनको ध्यान में रखते हुए इंडस्ट्रियल केमिस्ट्री के कोर्सेज शुरू किए जा सकते हैं।केमिस्ट्री के छात्रों को उद्योग से जोड़ने के लिए इन विषयों की पढ़ाई काफी सहायक होगी।