हेमंत पर जमकर बरसे रघुवर, कहा- राज्य का विकास नहीं, विनाश हो रहा है

खूंटी: पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास और नवीन जायसवाल आज अचानक पूर्व लोकसभा उपाध्यक्ष सह पद्म भूषण सम्मानित कड़िया मुंडा के आवास पहुंचे और उनका हालचाल जाना। हालचाल जानने के क्रम में पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास पत्रकारों से मुखातिब हुए और जमकर वर्त्तमान हेमंत सरकार पर निशाना साधा।
पूर्व सीएम रघुवर दास ने कहा कि वर्तमान में झारखंड में नाम की कोई चीज नहीं है। सरकार बनने के 19 माह गुजरने के बाद भी झारखण्ड में विकास के कोई कार्य देखने को नहीं मिल रहे हैं। हेमन्त सरकार विकास नहीं राज्य में विनाश का कार्य कर रही है।
पूर्व सीएम रघुवर दास ने कहा कि हेमंत सरकार ने चुनावी घोषणा पत्र में कहा था कि एक वर्ष में 5 लाख लोगों को रोजगार देंगे लेकिन वह भी विफल साबित हुआ। वर्त्तमान हेमन्त सरकार झारखण्ड के लोगों को ठगने का काम कर रही है। उन्होंने कहा कि पूर्व में भाजपा की सरकार के समय जिन पंचायत सचिवों की नियुक्ति प्रक्रिया लगभग पूरी कर ली गयी थी सिर्फ नियुक्ति पत्र देना था लेकिन उसे भी हेमन्त सरकार ने ठंडे बस्ते में डाल दिया। भाजपा सरकार में पंचायत सचिवों को सिर्फ नियुक्ति पत्र देना था लेकिन चुनावी घोषणा होने के कारण प्रक्रिया अधूरी रह गयी। इस मामले में हाई कोर्ट – सुप्रीम कोर्ट ने भी आदेश दिया है लेकिन उसका भी पालन वर्त्तमान सरकार नहीं कर रही है।
पूर्व सीएम रघुवर दास ने हेमंत सरकार पर पूरी तरह आक्रमक रुख अपनाते हुए कहा कि हेमंत सरकार ने 19 माह में कोई भी विकास का कार्य नहीं किया है भाजपा के शासन काल में दुमका, पलामू और हजारीबाग में तीन मेडिकल कॉलेज की शुरुआत की गई थी और इसमें 300 बच्चों को मेडिकल की पढ़ाई करानी थी लेकिन हेमंत सरकार ने इसे भी ठंडे बस्ते में डाल दिया। दुमका, हजारीबाग और पलामू मेडिकल कॉलेज के लिए सिर्फ लेबोरेट्री और कुछ आधारभूत संरचना विस्तार का कार्य किया जाना था लेकिन कोई भी कार्य नही किया गया और राज्य के 300 बच्चे मेडिकल की पढ़ाई से अब वंचित रह गए।
झारखंड सरकार में जितने भी जनहित और जन कल्याण से जुड़ी योजनाएं चल रही थी वह सभी बंद पड़ी है। शिक्षण संस्थान हो, विकास को लेकर काम हो या अंडरग्राउंड विद्युत केबलिंग का काम तथा घर घर नल जल पहुंचाने का काम इन सभी योजनाओं को सरकार ने पूरी तरह से बंद कर दिया है। वर्तमान सरकार विकास की जगह विनाश करने का काम कर रही है। वर्त्तमान झारखण्ड में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है।