बच्चों को नशे मुक्त समाज निर्माण में अभिभावक व समाज की जवाबदेही

बोकारो: आज बेरमो प्रखंड के बेरमो स्टेशन के समीप मुख्य मार्ग के सटे यात्री शेड मे बाल अधिकार सरंक्षण जागरूकता अभियान बाल अधिकार कार्यकर्ता सह मनोवैज्ञानिक डॉ प्रभाकर कुमार के नेतृत्व में एक दिवसीय कार्यशाला डॉ प्रभाकर कुमार ने बाल अधिकारों व कानून को बतलाते हुए समाज के बाल हित संवेदनशीलता मे बच्चों में नशे मुक्त परिवेश निर्माण की बात रखी जिनमें घर के शुद्ध वातावरण , माता पिता का प्यार , देखरेख , वात्सल्यता , सरंक्षण महत्वपूर्ण है , छोटी उम्र से ही बच्चे नशे सेवन के आदी होते हैं अतः माता पिता अभिभावकों को कम उम्र से ही ध्यान देने की महंती आवश्यकता है ।

डॉ प्रभाकर कुमार ने बच्चों में बढ़ती बाल अपराध की घटनाओं के लिये नशे में बचपन को जिम्मेदार ठहराया है । झुग्गियों मे निवास करने वाले बच्चों में नशे की लत सामान्य अवस्था है , अभिभावकों का परस्पर ध्यान कम उम्र से ही अति आवश्यक है । समाजीकरण की प्रक्रिया में बच्चों पर अभिभावकों की भूमिका काफी महत्वपूर्ण है ।

झुग्गी बस्ती में माता पिता अभिभावकों समुदायों संग संकल्प लिया गया कि नशे मुक्त , बाल विवाह मुक्त , बाल श्रम मुक्त , बाल उत्पीड़न व यौन उत्पीड़न मुक्त , बाल दुर्व्यवहार व दुर्व्यापार मुक्त , बाल दुर्व्यसन मुक्त , बाल अपराध मुक्त समाज निर्माण मे अपनी अहम भूमिका निभाएंगे ।

आज के जागरूकता अभियान में विकास सिंह शिक्षक , मानवाधिकार कार्यकर्ता अनूप कुमार साव , समाज सेवी अनिल अग्रवाल , रोहित कुमार , भण्डारिका यादव , मुकेश भारती , नारायण रविदास , अमर नाथ , संदीप , सुनीता देवी , कौशल्या देवी , सुमन पांडे , रेणु देवी , सुजीत , युवाओं मे कृष्ण कांत तिवारी , वर्तिका राज , ऋषभ कुमार आदि उपस्थित थे ।