कोविड – 9 व राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन की हुई समीक्षा बैठक, तीसरी लहर को लेकर प्रशासन सतर्क

बोकारो से जय सिन्हा
बोकारो:  समाहरणालय स्थित सभागार में बुधवार को उपायुक्त कुलदीप चौधरी ने कोविड 19 एवं राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (एनआरएचएम) के तहत संचालित विभिन्न योजनाओं – कार्यों की प्रगति कार्य की समीक्षा बैठक की। मौके पर उप विकास आयुक्त जय किशोर प्रसाद, सिविल सर्जन डा. जितेंद्र सिंह उपस्थित थे।

समीक्षा बैठक के क्रम में उपायुक्त ने कोविड 19 के संभावित तीसरे लहर को लेकर की गई तैयारी की समीक्षा की। साथ ही, कोविड 19 जांच की प्रखंडवार जानकारी ली। उन्होंने सभी प्रभारी प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारियों को लक्ष्य के अनुरूप प्रदर्शन करने को कहा। साथ ही कहा कि कोविड जांच में किसी भी तरह की कोई लापरवाही नहीं बरतन के निर्देष दिये। उपायुक्त ने नियमित सभी टेस्टिंग प्वाइंट पर जांच कार्य करने को कहा। साथ ही, बोकारो रेलवे स्टेशन/ बस स्टैंड एवं चंद्रपुरा रेलवे स्टेशन पर विशेष ध्यान देने को कहा है।

कोरोना काल में मृत कर्मियों का सर्वे कर सौंपे प्रतिवेदन।

समीक्षा क्रम में उपायुक्त ने कोविड से अब तक हुई मौतों के संबंध में जानकारी प्राप्त की। जिस पर स्वास्थ्य कर्मी ने बताया कि अब तक 286 मौत हुई है। इस पर उपायुक्त ने ऐसे कर्मियों का सर्वे कर प्रखंडवार आंकड़ा संग्रह करने को कहा जिनकी मौत कोरोना से हुई है। चाहे वह किसी भी विभाग में कार्यरत थे। वहीं, वैसे स्वास्थ्य संस्थानों को सर्वे कर चिन्हित करने को कहा जहां मौत ज्यादा हुई है। मृतक किस क्षेत्र का रहने वाला था, इसे भी देखें। इसका भी प्रतिवेदन तैयार करने को कहा। दोनों कार्य को एक सप्ताह में पूरा करने को कहा। ताकि, राज्य को प्रतिवेदन समर्पित किया जा सके।

समीक्षा क्रम में उपायुक्त ने सभी प्रखंड चिकित्सा प्रभारी पदाधिकारी (एमओआइसी) को ट्रू नेट मशीन के क्षमता अनुरूप जांच करने को कहा। इस क्रम में चास, सदर, बेरमो एवं जरीडीह प्रखंड का प्रदर्शन संतोषजनक पाया। शेष प्रखंडों के प्रदर्शन में सुधार लाने का निर्देश दिया। गोमिया प्रखंड का प्रदर्शन कमजोर रहने के कारण संबंधित एमओआइसी को प्रगति लाने को कहा। वही सैंपल जांच की संख्या को आइसीएमआर पोर्टल पर प्रतिदिन अपडेट करने को निदेशित दिया। जिन प्रखंडों का आक़ड़ा अपडेट नहीं था। उन्हें दो दिनों में अपडेट करने का निर्देश दिया।

उपायुक्त ने सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों/अनुमंडल अस्पताल आदि स्वास्थ्य संस्थानों को कोविड काल में उपचार के लिए उपलब्ध कराएं गए आक्सीजन सिलेंडर/ कंसंट्रेटर आदि का मिलान कर कार्यरत स्थिति में सभी को सुनिश्चित करने को कहा। साथ ही, कंसंट्रेटर की क्षमता क्या है एवं आक्सीजन सिलेंडर किस श्रेणी का है, इसकी जांच कर लें। कंस्ट्रेटर के संचालन के लिए एक – दो कर्मियों को चिन्हित कर उनकी सूची जिला को उपलब्ध कराएं। उपायुक्त ने सिविल सर्जन डा. सिंह को सभी कर्मियों का कंसंट्रेटर संचालन का प्रशिक्षण कार्यक्रम 16 अगस्त को सुनिश्चित करने को कहा। उन्होंने कहा कि जल्द ही वह स्वास्थ्य केंद्रों का निरीक्षण करेंगे, इसमें किसी भी तरह की कोई लापरवाही नहीं मिलनी चाहिए। उपायुक्त ने जिला/प्रखंड के दवा स्टोर (डीवीएस) को सुधारने को कहा। जो निर्धारित मानक है उसके अनुरूप रहें। कोल्ड चैन प्वाइंट को भी सुदृढ़ एवं वैक्सीन रजिस्टर को अपडेट करने को कहा।

उपायुक्त ने राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के तहत संचालित विभिन्न योजनाओं में गति लाने को कहा। कहा कि स्वास्थ्य विभाग का जो नियमित कार्य है उसमें अविलंब गति लाएं। बच्चों/गर्भवती महिलाओं आदि का टीकाकरण, संस्थागत प्रसव आदि को लक्ष्य के अनुरूप बढ़ाने को कहा। कुपोषण उपचार केंद्र (एमटीसी) में उपलब्ध बेड खाली नहीं रहे इसे सभी एमओआइसी – समाज कल्याण विभाग से समन्वय स्थापित कर सुनिश्चित करेंगे।
उपायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग द्वारा विभिन्न रोगों के उपचार से कितने लोगों को लाभ मिला। इसकी जानकारी ली और जरूरी दिशा – निर्देश दिए। उपायुक्त ने सिविल सर्जन को सभी प्रखंडों में दिव्यांगता जांच शिविर आयोजित करने का निर्देश दिया। बैठक में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, जिला डाटा प्रबंधक कंचन कुमारी, सभी प्रखंडों के प्रखंड चिकित्सा पदाधिकारी समेत अन्य उपस्थित थे।