साध्वी से सामूहिक दुष्कर्म कांड का दूसरा आरोपी भी गिरफ्तार

– गिरफ्तार आशीष राणा उर्फ आशीष यादव सामूहिक दुष्कर्म कांड का है मुख्य अभियुक्त
– पुलिस अधीक्षक ने घटनास्थल सत्संग आश्रम का किया निरीक्षण
अभय पलिवार की रिपोर्ट

गोड्डा : साध्वी से सामूहिक दुष्कर्म कांड का दूसरा अपराधी आशीष राणा उर्फ आशीष यादव भी पुलिस के हत्थे चढ़ गया। पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए इस अपराधी को भी धर दबोचने में सफलता पाई। आशीष राणा ही सामूहिक दुष्कर्म कांड का मुख्य आरोपी बताया जा रहा है। इस बीच इस जघन्य दुष्कर्म कांड की जांच की गति तेज करने एवं पुख्ता साक्ष्य जुटाने के उद्देश्य से बुधवार को पुलिस अधीक्षक ने घटनास्थल का मुआयना किया एवं सत्संग आश्रम में रह रहे साधु एवं साध्वियों से मामले की जानकारी ली।
मालूम हो कि सोमवार की रात्रि करीब 2.15 बजे अपराधियों ने मानवता को शर्मसार करते हुए सदर प्रखंड के रानीडीह पंचायत अंतर्गत टाडावार में स्थित महर्षि संतसेवी सत्संग आश्रम, गौरवकुंज में रह रहीं एक प्रवासी साध्वी की इज्जत पर अपराधियों ने सामूहिक रुप से डाका डाला था। पीड़िता साध्वी इस जिला में सत्संग करने आईं थीं। लेकिन कोरोनावायरस के कारण जारी लॉकडाउन में वापस नहीं लौट सकीं थीं। करीब 5 माह से साध्वी सत्संग आश्रम में ही रह रहीं थीं।
चार अपराधियों ने आश्रम की चहारदीवारी को फांद कर अंदर प्रवेश किया। आश्रम में पीड़िता साध्वी समेत चार अन्य साध्वी तथा एक पुरुष साधु थे। अपराधियों ने सभी के साथ मारपीट की थी और हथियार के बल पर सभी को अलग-अलग कमरे में बंद कर दिया और उसके बाद करीब 40 वर्षीया प्रवासी साध्वी के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया। मिली जानकारी के अनुसार दो अपराधी आशीष राणा उर्फ आशीष यादव तथा दीपक राणा उर्फ दीपक यादव ने साध्वी की अस्मत को रौंदने का काम किया था, जबकि दो अपराधी आश्रम की पहरेदारी कर रहे थे।
पीड़िता साध्वी अपनी इज्जत बचाने के लिए अपराधियों से रहम की भीख मांग रही थी। अपराधियों से वह कह रही थी कि ” मैं तुम्हारी मां के समान हूं। मुझ पर रहम करो।” लेकिन हवास के भूखे भेड़ियों पर पीड़िता साध्वी के गिड़गिड़ाने का कोई असर नहीं हुआ। दोनों दरिंदों ने बारी-बारी से दुष्कर्म करते हुए साध्वी की इज्जत को रौंद डाला।
इस मामले में पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए घटना के कुछ घंटों के भीतर ही मंगलवार को एक अपराधी दीपक राणा उर्फ दीपक यादव को गिरफ्तार कर लिया था। दीपक आश्रम से ही सटे पचवारा गांव का निवासी है। अनेक आपराधिक घटनाओं में शामिल दीपक राणा कुछ महत्वपूर्ण ही जेल से छूट कर आया है। वहीं सामूहिक दुष्कर्म कांड का मुख्य अपराधी आशीष राणा उर्फ आशीष यादव बुधवार को पकड़ा गया ‌। आशीष गोड्डा मुफस्सिल थाना क्षेत्र के कठोर गांव का रहने वाला है।

अपराधियों ने बम से उड़ाने की दी थी धमकी

सामूहिक दुष्कर्म कांड की घटना के वक्त आश्रम में मौजूद पंकज बाबा ने बताया कि रात के वक्त अपराधियों ने जब आश्रम में प्रवेश किया तो पथवारा के रहने वाले दीपक राणा को वह पहले से जानते थे। जान पहचान रहने के कारण हमने सबको छोड़ देने की विनती की। लेकिन अपराधियों ने कुछ नहीं सुनी और बम से उड़ा देने की धमकी दी। पंकज बाबा ने बताया कि साध्वी फरवरी माह में प्रवचन के लिए आश्रम आईं थीं‌। लेकिन लॉकडाउन के कारण वह कहीं अन्यत्र जा नहीं सकी।

पुलिस टीम के सदस्य

साध्वी के साथ सामूहिक दुष्कर्म कांड में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस अधीक्षक द्वारा गठित विशेष टीम में पुलिस निरीक्षक सह गोड्डा नगर थाना प्रभारी अशोक कुमार सिंह, मुफस्सिल थाना प्रभारी ज्योतिष कुमार जयसवाल, महिला थाना प्रभारी सुरेंद्र कुमार सिंह, मुफस्सिल थाना के अवर निरीक्षक सूरज कुमार, प्रशिक्षु अवर निरीक्षक ताराचंद, सुनील कुमार एवं गणेश कुमार तथा मुफस्सिल थाना के एएसआई सुबोध कुमार भी शामिल थे।

पुलिस अधीक्षक ने घटनास्थल का किया निरीक्षण

पुलिस अधीक्षक वाइएस रमेश के द्वारा बुधवार को चर्चित साध्वी रेप कांड के घटना स्थल महर्षि संतसेवी आश्रम का निरीक्षण किया गया। उन्होंने आश्रम में मौजूद संतो से मुलाकात की एवं आश्वस्त किया कि मामले की गंभीरता को देखते हुए छानबीन कर जल्द से जल्द दोषियों के विरुद्ध कड़ी करवाई की जाएगी। किसी भी हालत में दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा।