साध्वी से सामूहिक दुष्कर्म, मुख्य अभियुक्त गिरफ्तार

– स्पीडी ट्रायल चलाकर अपराधियों को दिलाई जाएगी सजा
अभय पलिवार की रिपोर्ट

गोड्डा : अपराधियों ने मानवता को शर्मसार करते हुए सत्संग आश्रम की करीब 40 वर्षीया एक साध्वी के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया। पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए इस शर्मनाक कांड के मुख्य आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगी हुई है। पुलिस अधीक्षक वाईएस रमेश ने बताया कि तकनीकी आधार पर अनुसंधान करते हुए स्पीडी ट्रायल चलवा कर अभियुक्तों को जल्द सजा दिलवाई जाएगी।
घटना सदर प्रखंड के रानीडीह पंचायत अंतर्गत टाडावार मैं स्थित महर्षि संतसेवी सत्संग आश्रम गौरव कुंज की सोमवार की रात्रि की है। आश्रम में रह रही एक प्रवासी साध्वी की इज्जत पर अपराधियों ने सामूहिक रुप से डाका डाला। पीड़िता साध्वी इस जिला में सत्संग करने आईं थीं। लेकिन कोरोनावायरस के कारण जारी लॉकडाउन में वापस नहीं लौट सकीं थीं। करीब 5 माह से साध्वी सत्संग आश्रम में ही रह रहीं थीं।
सोमवार की रात तकरीबन 2:15 बजे चार अपराधियों ने आश्रम की चहारदीवारी के सहारे अंदर प्रवेश किया। आश्रम में पीड़िता साध्वी समेत चार अन्य साध्वी तथा एक पुरुष साधु थे। पीड़िता ने बताया कि आश्रम की दीवाल को फांद कर अपराधियों ने आश्रम में प्रवेश किया। अपराधियों ने सभी के साथ मारपीट की और हथियार के बल पर सभी को अलग-अलग कमरे में बंद कर दिया और उसके बाद साध्वी के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया। आश्रम में मौजूद पंकज बाबा ने बताया कि रात के वक्त अपराधियों ने जब आश्रम में प्रवेश किया तो पथवारा के रहने वाले दीपक राणा को वह पहले से जानते थे। जान पहचान रहने के कारण हमने सबको छोड़ देने की विनती की। लेकिन किसी ने कुछ नहीं सुना और बम से उड़ा देने की धमकी दी।
पंकज बाबा ने बताया कि साध्वी फरवरी माह में प्रवचन के लिए आश्रम आईं थीं‌। लेकिन लॉकडाउन के कारण वह कहीं अन्यत्र जा नहीं सकी। पुलिस अधीक्षक वाईएस रमेश ने बताया कि हथियार से जान मारने का भय दिखाकर अपराधी दीपक राणा और आशीष राणा के द्वारा साध्वी के साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया गया। पीड़िता के द्वारा थानों को सूचित करने पर पुलिस अधीक्षक श्री रमेश के द्वारा अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया। टीम द्वारा अभियुक्तों के छिपने के संभावित ठिकानों पर छापामारी करके प्राथमिकी अभियुक्त दीपक राणा (22), पिता राजेश राणा उर्फ भोली यादव, साकिन पथवारा, थाना गोड्डा मुफस्सिल को गिरफ्तार कर लिया गया है। पूछताछ के क्रम में गिरफ्तार अभियुक्त ने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है।
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सामूहिक दुष्कर्म कांड में शामिल अन्य अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापामारी कर रही है। कांड में शामिल अन्य अपराधियों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि कांड का अनुसंधान तकनीकी आधार पर कराते हुए अभियुक्तों को सजा दिलवाने के लिए स्पीडी ट्रायल चलाया जाएगा।

दुष्कर्मी का आपराधिक इतिहास

सामूहिक दुष्कर्म कांड का गिरफ्तार मुख्य अपराधी दीपक राणा का पुराना आपराधिक इतिहास रहा है। गोड्डा नगर थाना, मुफस्सिल थाना एवं पोड़ैयाहाट थाना में इस अपराधी के खिलाफ बीते करीब 4 साल के दौरान आधा दर्जन आपराधिक मामले दर्ज हुए हैं। दर्ज मामलों में हत्या एवं आर्म्स एक्ट से संबंधित मामले शामिल हैं।

पुलिस टीम के सदस्य

साध्वी के साथ सामूहिक दुष्कर्म कांड में शामिल अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस अधीक्षक द्वारा गठित विशेष टीम में पुलिस निरीक्षक सह गोड्डा नगर थाना प्रभारी अशोक कुमार सिंह, मुफस्सिल थाना प्रभारी ज्योतिष कुमार जयसवाल, महिला थाना प्रभारी सुरेंद्र कुमार सिंह, मुफस्सिल थाना के अवर निरीक्षक सूरज कुमार, प्रशिक्षु अवर निरीक्षक ताराचंद, सुनील कुमार एवं गणेश कुमार तथा मुफस्सिल थाना के एएसआई सुबोध कुमार भी शामिल थे।