हाथों की मेहंदी का रंग उतरने से पहले ही सूनी हो गई संगीता की मांग

– मंगल गान की जगह करुण क्रंदन से माहौल हुआ गमगीन
– नवविवाहित युवक की कुएं से बरामद की गई लाश
– शादी के एक दिन बाद ही हुआ हादसा
विजय कुमार की रिपोर्ट
मेहरमा : अभी हाथों की मेहंदी का रंग गाढ़ा ही था कि संगीता की मांग सूनी हो गई। एक दिन पूर्व ही सुहागन बनी संगीता विधवा हो गई। महज एक दिन पहले जिस घर में शादी के मंगल गीत गाए जा रहे थे, उस घर से रोने धोने की आ रही आवाज से गांव का माहौल गमजदा हो गया है।
स्थानीय थाना क्षेत्र के मेहरमा पंचायत अंतर्गत बनौधा गांव निवासी राकेश कुमार यादव (24) की शादी सोमवार को महागामा थाना क्षेत्र के चिचोरी गांव में हुई थी। मंगलवार को अपनी नवविवाहिता पत्नी को लेकर राकेश घर लौटा था। बुधवार को सुबह उसकी लाश घर के बगल के कुआं से बरामद की गई। इस हृदय विदारक घटना से दोनों गांव में मातमी सन्नाटा पसर गया है। परिवारी जनों के करुण क्रंदन से माहौल दुखदाई हो गया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, मृतक राकेश की शादी बीते सोमवार को महागामा थाना क्षेत्र अंतर्गत चिचोरी गांव निवासी संगीता कुमारी से हुई थी। सोमवार को शादी होने के बाद मंगलवार की सुबह बारात के साथ दुल्हन लेकर अपना घर मेहरमा लौटा था। रात में दोनों नवविवाहित जोड़ा खाना खाने के बाद एक कमरे में सोने के लिए चला गया था।
रात लगभग 11 बजे बिजली कट जाने के कारण राकेश अपने घर की छत पर सोने के लिए चला गया। जब सुबह हुई तो परिजनों ने विवाह से संबंधित बचे रस्म को पूरा करने के लिए उसे ढूंढा जाने लगा, तो घर में नहीं देखा गया। जिसके बाद परिजनों ने बाराहाट मार्केट एवं पड़ोसियों के घर में भी खोजबीन की। कुछ घंटे बाद एक महिला ने घर से महज कुछ ही दूरी पर स्थित एक कुएं के पास उसका चप्पल देखी। संदेह होने पर घर वालों को बताया गया। परिजनों ने जब कुएं में तलाशी लिया तो नवविवाहित राकेश का शव कुएं से बरामद किया गया।
मौत की सूचना पर आसपास के सैकड़ों लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। घटना की सूचना पाकर मेहरमा पुलिस मौके पर पहुंची और जानकारी लिया इधर युवक की मौत से परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। युवक की मौत को लेकर परिजनों ने किसी पर कोई शक जाहिर नहीं किया है। मृतक युवक पेशे से मजदूरी का काम करता था। तीन भाई में मृतक सबसे बड़ा था।