संक्रमित मरीज के सभी परिजनों की जाँच रिपोर्ट नेगेटिव: उपायुक्त 

गोड्डा : उपायुक्त किरण पासी ने बताया कि  जिलान्तर्गत अब तक 493 मरीजों के सैंपल जांच के लिए भेजे जा चुके है। जिसमे 398 की जांच रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है। 94 लोगों की जांच रिपोर्ट जल्द ही जिला प्रशासन को प्राप्त हो जाएगी। इसके अलावे सबसे महत्वपूर्ण गोड्डा जिले के कोरोना संक्रमित मरीज की दूसरी जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है। एहितयात और सुरक्षा के तौर पर लत्ता गांव के सभी ग्रामीणों की स्वास्थ्य जांच लगातार की जा रही है। साथ ही पहले संक्रमित मरीज कहां-कहां गया है, किससे मिला है, इससे जुड़ी संपूर्ण निगरानी और ट्रेसिंग प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगातार की जा रही है।

कोरोना संक्रमित पहले  मरीज के सभी परिजनों की जांच पूरी

उपायुक्त  ने जानकारी दी कि कोरोना संक्रमित मरीज के सभी परिजनों का सैंपल जांच के लिए भेजा गया था। सभी की जांच रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है। जो कि हम सभी के लिए एक राहत महसूस करने वाली बात है।अब जिला पुनः कोरोना मुक्त हो गया है।

तालियों और फूलों से दी गयी कोरोना संक्रमित मरीज को अस्पताल से विदाई

  कोरोना संक्रमित मरीज की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आने के पश्चात मरीज  की स्थिति बिल्कुल सामान्य पायी गयी है। फलस्वरूप सोमवार  को मरीज को अस्पताल से छुट्टी दी गयी। अब वह बिलकुल स्वस्थ हैं।
मरीज के स्वस्थ होने पर विदाई के अवसर पर   सिविल सर्जन डॉक्टर शिवप्रसाद मिश्रा, अनुमंडल पदाधिकारी गोड्डा, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी गोड्डा टाउन थाना प्रभारी गोड्डा एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मियों के द्वारा तालियां बजाकर मरीज को विदाई दी गयी। साथ ही चिकित्सकों और स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा मरीज पर फूल बरसाकरअस्पताल से उनके गंतव्य स्थान तक एंबुलेंसके द्वारा पहुंचाया गया।
सिविल सर्जन डॉक्टर मिश्रा के द्वारा बताया गया कि गोड्डा जिले में कोरोना का पॉजिटिव मरीज 30 अप्रैल को मिला था। जिसे 14 दिन  कोविड केयर  सेंटर में रखकर उनकी देखभाल की गई। इसके फलस्वरूप दिनांक 17 मई को कोरोना  जांच निगेटिव आने के उपरांत  गोड्डा जिला  कोरोना  पॉजिटिव  केस  से मुक्त हो गया। इस प्रकार जिला ग्रीन जोन में आ गया है।जिले के सामूहिक प्रयासों से इस केस को हम पॉजिटिव से नेगेटिव कर पाए हैं।  संपूर्ण जिले में स्वास्थ्य विभाग एवं जिला प्रशासन के संयुक्त प्रयास से कोविड केयर सेंटर -01 क्वॉरेंटाइन सेंटर 231  के माध्यम से अभी तक कुल  4216 लोगों को देश के विभिन्न राज्यों से आए हुए व्यक्तियों को  क्वॉरेंटाइन की सुविधा उपलब्ध कराई गई। वही कुल 15947 व्यक्तियों को सरकारी भवनों एवं अन्य स्थानों में क्वॉरेंटाइन किया गया  है । इसके अतिरिक्त  11257 व्यक्तियों को होम क्वॉरेंटाइन किया गया है। जिसका सहिया एवं सेविकाओं के द्वारा देखरेख की जा रही है। संपूर्ण जिले में 32 चिकित्सीय दाल के द्वारा बाहर से आने वाले व्यक्तियों का कोरोना  जांच किया जा रहा है।
इस दौरान अनुमंडल पदाधिकारी गोड्डा   संजय पीएम कुजूर के द्वारा  जानकारी दी गयी कि पिछले दिनों  मरीज की रिपोर्ट   पॉजिटिव प्राप्त हुई थी। इलाज के क्रम में  रिपोर्ट नेगेटिव आने के उपरान्त एहितयात और सुरक्षा के तौर पर मरीज के सैंपल को दूसरी बार जांच के लिए भेजा गया था, जिसमें इनका रिपोर्ट नेगेटिव आया है एवं अब पूर्णतः स्वस्थ पाए गए। ऐसे में किसी को भी इससे पैनिक होने या घबराने की आवश्यकता नहीं है।
डिस्चार्ज होने के बाद कोरोना संक्रमित युवक ने चिकित्सकों की टीम को दी बधाई:
अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद कोरोना संक्रमित के द्वारा बताया गया  कि अस्पताल में उनका अच्छी तरह से ख्याल रखा गया। अच्छे खाने के साथ अच्छा व्यवहार भी किया गया। यह भी बताया गया कि कोरोना एक भयंकर बीमारी है। कोरोना संक्रमण को हराया जा सकता है, जैसा हमने किया। बस हिम्मत बनाये रखें एवं डाॅक्टरों के निर्देशों का पालन करें। इसके अलावे इससे बचने के लिये  सरकार के आदेशों का पालन करते हुए अपने घरों में ही रहें। तभी आप कोरोना जैसी भयानक बीमारी से बच सकते है।
 सभी चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मियों की टीम को उपायुक्त ने दिया धन्यवाद :
उपायुक्त श्रीमती पासी के द्वारा हॉस्पिटल प्रबंधक, चिकित्सकों की टीम के साथ सभी स्वास्थ्यकर्मियों की हौसला आफजाई करते हुए आभार प्रकट करते हुए कहा कि  कोरोना के इस जंग में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से कार्य कर रहे सभी कोरोनो वारियर्स को कोटि-कोटि नमन ।
मौके पर स्वास्थ्य विभाग  के डीआरसीएचओ डॉक्टर मंटू टेकरीवाल,  डॉ उज्जवल कुमार, डॉ पीएन दर्वे , एवं अन्य स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित थे।