डकैता मिशन हॉस्पिटल की व्यवस्था पर संतुष्टि, ईसीएल हॉस्पिटल की व्यवस्था पर भड़की

– विधायक दीपिका पांडेय सिंह ने किया अस्पतालों की व्यवस्था का मुआयना
अभय पलिवार/मुकेश कुमार की रिपोर्ट
गोड्डा/महागामा : इस गंभीर कोरोना काल में अपने विधानसभा क्षेत्र में स्वास्थ्य व्यवस्था को दुरुस्त करने के मिशन में लगीं महागामा की कांग्रेस विधायक दीपिका पांडेय सिंह ने शुक्रवार को डकैता मिशन अस्पताल एवं महागामा स्थित ईसीएल अस्पताल में स्वास्थ्य सुविधा का जायजा लिया। डकैता मिशन अस्पताल की व्यवस्था से विधायक ने जहां संतुष्टि जताई, वहीं ईसीएल हॉस्पिटल की लचर व्यवस्था को लेकर अपनी भड़ास निकाली।
विधायक श्रीमती सिंह के प्रयास से डकैता मिशन अस्पताल में अब ऑक्सीजन सपोर्ट वाले बेड की संख्या 20 से बढ़ाकर 36 कर दिया गया है। कम लक्षण वाले मरीज़ों की बेड में भी बढ़ोत्तरी की गई है। विधायक ने कहा कि उनकी कोशिश है कि अस्पताल में बेडों की संख्या बढ़ाने के साथ ही दूसरी ज़रूरी सामग्री भी अस्पताल को सही समय पर मिले।
डकैता मिशन अस्पताल के निरीक्षण के दौरान विधायक ने दूसरे मरीज़ों से भी भेंट कर आश्वस्त कराया कि उन्हें इलाज में किसी तरह की समस्या नहीं होगी। श्रीमती सिंह ने कहा कि जिस तरह से मिशन अस्पताल के डॉक्टर और सभी नर्स, कर्मचारी काम कर रहे हैं, वह तारीफ योग्य है। उनका आभार और दिल से नमन ।

ईसीएल हॉस्पिटल की व्यवस्था पर जताई नाराजगी

विधायक दीपिका पांडेय सिंह के द्वारा महागामा के ऊर्जानगर ईसीएल अस्पताल का भी निरीक्षण किया गया। वहां की विधि व्यवस्था को देखते हुए विधायक दीपिका पांडे सिंह भड़क उठीं । उन्होंने ईसीएल हॉस्पिटल के डॉक्टर एवं पदाधिकारी को डांट फटकार भी लगाई । विधायक श्रीमती सिंह ने बताया कि यहां के प्रबंधन को 15 दिन पूर्व ही अस्पताल की व्यवस्था दुरुस्त कराने के लिए कहा गया था। परंतु यहां के प्रबंधन के द्वारा किसी तरह का कोई प्रबंध नहीं किया गया है ।निरीक्षण के दरमियान देखा गया कि कोविड-19 के पेशेंट को लेकर कोई उचित व्यवस्था नहीं की गई थी। जबकि उनके माध्यम से ऑक्सीजन एवं अन्य सामग्री की उपलब्धता करा दी गई थी ।
मालूम हो कि विधायक श्रीमती सिंह के प्रयास से ईसीएल हॉस्पिटल में कोविड हॉस्पिटल बनवाया जा रहा है। अस्पताल में व्यवस्था को लेकर विधायक श्रीमती सिंह पूर्वाह्न 11 बजे से लेकर शाम तक इस अस्पताल में डटी रहीं । उन्होंने यह भी कहा कि जब तक उचित व्यवस्था नहीं होती है तब तक वह यहीं पर बैठी रहेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *